Home > नई किताब/फ़िल्म > सबसे ऊंची पुस्तक (51 फीट) का लोकार्पण, 2 टन ऑयरन लगा बनाने में

सबसे ऊंची पुस्तक (51 फीट) का लोकार्पण, 2 टन ऑयरन लगा बनाने में

विश्व की सबसे छोटी महिला ज्योति और मुनि तरुण सागर पुस्तक लोकार्पण समारोह मे। तस्वीर साभार दै.भा.
सीकर के रामलीला मैदान में रखी विशालकाय पुस्तक।
सीकर के रामलीला मैदान में रखी विशालकाय पुस्तक।

भाग नौ 52 फीट ऊंची पुस्तक है। पुस्तक के निर्माता सतीश जुनगड़े ने बताया कि अब तक 25 से 35 फुट तक की पुस्तकें बनाई हैं जिसमें शेखावाटी में सबसे बड़ी 52 फुट की पुस्तक का निर्माण किया। नासिक के कारीगरों ने पुस्तक का निर्माण किया है। इस पुस्तक को बनाने में दो टन आयरन लगा है।  यह 24 फीट चौड़ी है। इसे बनाने में 100 लीटर कलर लगा है।

 

सीकर।मुनि तरुण सागर महाराज के कड़वे प्रवचन भाग -9 पुस्तक का लोकार्पण रविवार को नागपुर से आई विश्व की सबसे छोटी महिला ज्योति आमगे ने अपने नन्हे हाथों से किया। यह पुस्तक 52 फुट ऊंची है। पुस्तक हिंदी में है। इससे पहले के संस्करणों को डायमंड पॉकेट बुक्स ने तरुणसागरजी के प्रवचनों का संकलन प्रस्तुत किया है।

क्या है इस पुस्तक में

– इस पुस्तक की विशेषता इसका 14 भाषाओं में प्रकाशन है। इस पुस्तक में अलग-अलग क्षेत्रों में जाकर दिए गए जीवन के परिर्वतन प्रवचन हैं-

जानिए इस पुस्तक के बारे में

– भाग नौ 52 फीट ऊंची पुस्तक है। पुस्तक के निर्माता सतीश जुनगड़े ने बताया कि अब तक 25 से 35 फुट तक की पुस्तकें बनाई हैं जिसमें शेखावाटी में सबसे बड़ी 52 फुट की पुस्तक का निर्माण किया।

– नासिक के कारीगरों ने पुस्तक का निर्माण किया है।

– इस पुस्तक को बनाने में दो टन आयरन लगा है।
– यह 24 फीट चौड़ी है। इसे बनाने में 100 लीटर कलर लगा है।

-लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड के लिए आवेदन | ब्रह्मचारीसतीश भैया ने बताया कि कड़वे प्रवचन का नौवे भाग का लिम्का बुक अॉफ रिकाॅर्ड के लिए आवेदन किया है। राखी के बाद लिम्का बुक अॉफ रिकार्ड की टीम जैन भवन आएगी। नासिक के कारीगरों ने पुस्तक का निर्माण किया है।

खबर साभारः दै.भा.

Share this: