Home > सर्वश्रेष्ठ फ़ोटो/कार्टून > सबसे चर्चित फोटो की थोड़ी सी चर्चा

सबसे चर्चित फोटो की थोड़ी सी चर्चा

चर्चा के केंद्र में अनिल शर्मा द्वारा खींची फोटो।
चर्चा के केंद्र में अनिल शर्मा द्वारा खींची फोटो।

मीडिया मिरर न्यूज,  दिल्लीः  संसद परिसर में सरदार बल्लभभाई पटेल की जयंती अवसर पर सभी दलों के राजनेता एकत्रित हुए। प्रधानमंत्री और राहुल गांधी भी पहुंचे। कैमरे के फ्लैश तो चमकने ही थे। निश्चित है ऐसे समारोहों में छायाकारों को विशेष तस्वीरों की गुंजाईश जान पड़ती है।

उसी वक्त कार्यक्रम के दौरान राहुल और मोदी का आमना सामना हुआ तो इंडियन एक्सप्रेस के छायाकार अनिल शर्मा ने ये तस्वीर कैमरे में कैद कर ली, जिसकी चर्चा हर ओर है। यहां तक कि सोशल मीडिया में तो ये तस्वीर वायरल हो ही रही है बीबीसी और आजतक ने भी इस तस्वीर पर काफी कुछ लिखा।

ऐसी तस्वीर दरअसल महज एक संयोग है और ऐसी तस्वीरें मिल ही जाती हैं। बहुत लोग ये कह रहे हैं कि तस्वीर की विवेचना की जाए और कर रहे हैं पर बतौर फोटो समीक्षक मैं यही कहूंगा कि इस तरह की क्षणिक भंगिमाओं के आधार पर जिस शारीरिक भाषा को लेकर हम अगर दोनो नेताओं की मनोस्थिति की चर्चा करें वो पारदर्शी नहीं होगा। हां साक्षात्कार रूम से बाहर निकलते प्रतिभागी की शारीरिक भाषा हो, या खुले मैदान में टहलते बराक ओबामा और मोदी की शारीरिक भाषा के आधार पर मंथन। ऐसा होता रहा है। पर इस तस्वीर की बात करें तो जो आवेश औऱ भाव चेहरे में हैं वो किसी दूसरे परिप्रेक्ष्य में भी हो सकते हैं। दोनो नेता चुनावी रैलियों में व्यस्त हैं, काफी यात्राएं कर रहे हैं, भाषणों का अध्ययन कर रहे हैं। कुछ भी हो सकता है इस शारीरिक भाषा के पीछे।

बहरहाल हां कैमरे का कमाल है, तारीफ करनी होगी अनिल जी इस तस्वीर के लिए। हालांकि वो पूर्व में भी ऐसी तस्वीरें खींचते रहे हैं। इस तस्वीर को लेने से पहले काम जरूर किया गया है और वो अनिल जी नहीं हर फोटोग्राफर करता है। कोई भी फोटोग्राफर जानता है दो दिग्गज खासतौर पर विपक्षी दलों के टकराएं तो उनको हर सेकंड कैद करना है ऐसी तस्वीरें छायाकार की काबीलियत का तो कोई पैमाना नहीं हैं पर चर्चा में जरूर आ जाती हैं। इसलिए ये सामान्य फोटो कह सकते हैं। हां ऐसी तस्वीरों में आप क्लोजप पर पूरा जोर देते हैं तो फ्रेम सही न भी बने कोई दिक्कत नहीं है। बेहतर क्वालिटी के लैंस के बाद डिस्टेंस समस्या लगभग अब खत्म सी है।

Share this: