Home > खबरें > डॉ ऋतु दुबे के कविता संग्रह तेरी मेरी बातें का विमोचन

डॉ ऋतु दुबे के कविता संग्रह तेरी मेरी बातें का विमोचन

रितु दुबे।
कविता संग्रह विमोचन अवसर की तस्वीर, एकदम दाएं रितु दुबे।
मीडिया मिरर न्यूज, दिल्लीः   डॉ ऋतु दुबे के कविता संग्रह तेरी मेरी बातें का विमोचन कार्यक्रम 15 दिसम्बर निस्कोर्ट मीडिया संस्थान में सम्पन्न हुआ! कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ कवि श्री मदन कश्यप मुख्य अतिथि साहित्य समीक्षक अनंत विजय ,और लोकसभा चैनल के अनुराग पुनेठा थे
विमोचन कार्यकम के प्रारंभ में कवियित्री में ‘मां तुम निराली हो’ कविता सुना कर माहौल भावुक कर दिया!
कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए अनुराग पुनेठा ने कहा कविताओं में परिपक्वता के अभाव से जूझता साहित्य जगत एक नई कवयित्री से इतनी परिपक्व कविताओं की उम्मीद नही कर रहा था!वहीं अनंत विजय ने फ़ेसबुकिया कविओं की दिशा हीनता और गिरते स्तर पर चर्चा की साथ ही तेरी मेरी बातों की कुछ कविताओं के जिक्र से संतोष ज़ाहिर किया कि डॉ ऋतु की रचनाओं को पढ़ कर उन्हें एक संतोष मिला!’क्योंकि बेटियां तो सांझी हैं’ कविता की सराहना करते हुए आने वाले समय मे कवियित्री के अलग रचने के अंदाज़ को यूं ही बरकरार रखनें की बात कही! निस्कोर्ट के डायरेक्टर फादर जोस ने भी कविता संग्रह के नाम को बहुत दिलचस्प बताया!
आखिरी में मदन कश्यप ने कविता की एक नई परिभाषा की जरूरत पर जोर दिया..समाज मे महिलाओं की रचनात्मकता को कुचलने की मानसिकता पर प्रकाश डाला और उनके बढ़ते हुए रचनात्मक योगदान को सराहा!तेरी मेरी बातें कविता संग्रह की कविता ‘नया पैबंद’को सराहा और उसकी रचना धर्मिता की व्याख्या की । कार्यक्रम के अंत में डॉ ऋतु दुबे ने अतिथियों का धन्यवाद दिया और वरिष्ठों के मार्गदर्शन और आशीर्वाद की कामना की!
श्री अनिल पांडेय(कैलाश सत्यार्थी फॉउंडेशन), वीरेन गोहिल (ऑल इंडिया रेडियो) ख़ालिद आजमी (दूरदर्शन), संजीव रजनी नागपाल, डॉ ओझा जी,सूर्य प्रकाश ,मीता उज्जैन, (माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी)डॉ शरद गोयल,अमिया मोहन,कमलेश सिंह , राम प्रताप,शैलेश रघुवंशी हिन्दयुग्म प्रकाशन,डॉ रजनी राठी (आई पी यूनिवर्सिटी)संजीव सिन्हा (प्रवक्ता डॉट कॉम),कमलेश सिंह (ज़ी टीवी),हिमांशु डबराल (लोक कला अकादमी)आदि अनेक पत्रकार और शिक्षा विद, साहित्यकार और कवि पधारे!कार्यक्रम का संचालन डॉ अभिलाषा द्विवेदी और प्रोफेसर साबू कोशी ने धन्यवाद दिया!
Share this: