Home > खबरें > टीम रविवार की बात ने आयोजित किया मीडिया टॉक शो

टीम रविवार की बात ने आयोजित किया मीडिया टॉक शो

रविवार की बात
भोपाल में आयोजित रविवार की बात का टॉक शो
मीडिया मिरर के लिए भोपाल से विभव देव शुक्ल की रिपोर्ट- 
 5 मई 2018 को मालवीय नगर, न्यू मार्केट स्थित एमब्रॉशिया कैफे और रेस्तरां में ‘रविवार की बात’ ने एक मीडिया टॉक शो का आयोजन कराया जिसका नाम था social सरोकार जिसका विषय रहा “युवाओं की नीति निर्धारण में भागीदारी कम क्यों ? कम है तो बढ़ेगी कैसे” ? रविवार की बात छात्रों के द्वारा संचालित एक मीडिया समूह और यू – ट्यूब चैनल है जो कि सामाजिक और राजनैतिक मुद्दों पर चलचित्र (वीडियो) बना कर साझा (अपलोड) किए जाते हैं । इस मीडिया टॉक शो में कुल 6 मुख्य वक्ता थे जिसमें दो पत्रकारिता जगत के पेशेवर रहे, हर्षवर्धन त्रिपाठी (टी.वी.पत्रकार) और आरिफ़ मिर्ज़ा (पत्रकार) । दो शिक्षाविद धरा पांडेय (प्राध्यापक),  निखिल दवे (लेखक, प्राध्यापक) ! एक रंगकर्मी विवेक सावरीकर और एक समाजसेवी विकास सक्सेना मौजूद रहे । इसके अलावा कला, मीडिया, पत्रकारिता, शिक्षा से जुड़े तमाम लोग बतौर श्रोता कार्यक्रम में उपस्थित रहे ।
कार्यक्रम की शुरुआत में सर्वप्रथम धरा पाण्डेय जी ने कहा की युवाओं पर जो बचपन से ही भविष्य संवारने का भार दिया जाता है इसे कम करने की ज़रूरत है, युवाओं को उनकी रुचि को महत्व देने की आवश्यकता है । इसके बाद हर्षवर्धन त्रिपाठी ने कहा कि युवाओं के मुद्दों की बात के दौरान भावनाओं में उलझना सही नहीं है । ज़रूरी है कि उस दौरान मुद्दों से सम्बंधित सही तथ्य और जानकारियों को तरजीह दी जाए साथ ही साथ निखिल दवे जी ने कहा कि समाज ने बच्चों को जो कि भविष्य में युवा बनेंगे उन युवाओं को पालना बंद कर दिया है फलस्वरूप युवाओं का दायरा बेहद सीमित हो जाता है और वह समाज में घुल मिल नहीं पाता जिससे उसे यह समझने में परेशानी होती है कि उसकी समाज के प्रति जिम्मेदारियाँ क्या हैं ? इसके बाद आरिफ मिर्ज़ा जी ने कहा कि युवाओं का सामाजिक मुद्दों के प्रति रुझान कम हो रहा है जिसे बढ़ाने की ज़रूरत है, युवाओं में रुचि और जागरूकता दोनों ही बढ़ाने की बेहद आवश्यकता है । अंत में विवेक सावरीकर जी ने कहा युवाओं का जीवन कहीं ना कहीं उनकी नौकरी और पैसे तक ही सिमट कर रह गया है  , उसे जनहित की नीतियों पर मजबूती से राय रखने की ज़रूरत है ।
“रविवार की बात” यू ट्यूब चैनल पर राजनैतिक और सामाजिक मुद्दों पर जानकारियां इकट्ठा करके विमर्श किया जाता है, उसके बाद उन्हें शूट करके वीडियो यू ट्यूब पर ही अपलोड किया जाता है । अमूमन ऐसा देखा जाता है कि यू ट्यूब पर साझा की जाने वाली विषयवस्तु मनोरंजन या हँसी – मज़ाक ही होता तो ऐसा प्रयास किया गया है कि यू – ट्यूब पर सामाजिक मुद्दों पर अपनी राय रखी जाए, चैनल के सभी सदस्य अभी युवा छात्र ही हैं ।
रविवार की बात
रविवार की बात आय़ोजन की टीम

रविवार की बात के सदस्य हैं – 

विभव देव शुक्ला
अलीशा सिन्हा (प्रस्तोता)
ब्रिजेन्द्र सिंह यादव (कैमरा पर्सन)
स्वर्णिम श्रीवास्तव (प्रस्तोता)
पवन नागर (वीडियो एडिटर)
अधीष कुमार (ग्राफिक डिज़ाइनर)
प्रियंका जोशी (प्रस्तोता)
अजीत यादव (प्रस्तोता)
अनघा तेलंग (प्रस्तोता)
दिव्यांश ठाकुर (प्रस्तोता)
कोमल निगम (कैमरा पर्सन, प्रस्तोता)
प्रवीण तिवारी (संयोजक)
राहुल साहू (संयोजक)
साहिल मिर्ज़ा (व्यंग्यकार)
सौरभ साबू (व्यंग्यकार)
Share this: