Home > खबरें > राष्ट्रीय मीडिया की सुर्खियों में रही बकरी से रेप की खबर निकली झूठी

राष्ट्रीय मीडिया की सुर्खियों में रही बकरी से रेप की खबर निकली झूठी

media mirror
media mirror

एडीटर अटैक- प्रशांत राजावत

ये कैसा अजीब दौर है पत्रकारिता का जब हम पत्रकार किसी भी खबर पर सिर्फ आधार पर भरोसा कर लेते हैं कि मामला दर्ज हुआ है या किसी ने कहा है। क्यों नहीं हम अपनी बुद्धि लगाते, क्यों नहीं हम खबरों का वजूद समझते, क्यों हम अफवाहों और गैर जरूरी खबरों पर केंद्रित होते हैं। मजह 2 दिन पहले 28 जुलाई को हरियाणा के मेवात से एक बेहूदी सी खबर आती है और देखते ही देखते वो राष्ट्रीय मीडिया में छा जाती है।

खबर का शीर्षक बकरी के साथ गैंगरेप। कहानी ये थी कि कुछ लड़कों ने शराब के नशे में बेजुबान से गैंगरेप किया। मामला बकरी के मालिक ने थाने में दर्ज कराया और मीडिया को खबर मिल गई। चूंकि बकरी ने दम तोड़ दिया औऱ पोस्टमार्टम में किसी भी तरह के कुकर्म औऱ दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई।

तो फिर हम मीडिया वाले क्या पढ़ा रहे थे देश को औऱ क्यों। क्या इसके अलावा कोई खबर नहीं। और अगर ये घटना हुई भी तो इसके प्रकाशित होने से क्या जागरुकता होने वाली है। पता नहीं मीडिया ऐसी खबरों को क्यों तूल देता है। और अंततः ये खबर ही झूठी निकली। बेहतर होगा कि राष्ट्रीय मीडिया अब इस खबर का खंडन प्रकाशित करे।

 

आजतक डॉट कॉम में प्रकाशित बकरी से रेप की खबर —

8 दरिंदों ने बकरी के साथ किया गैंगरेप

हरियाणा में महिलाएं ही नहीं अब पशु भी सुरक्षित नहीं हैं. ऐसा ही एक शर्मनाक मामला मेवात में सामने आया है, जहां हवस के दरिंदे बन चुके 8 लोगों ने एक बकरी के साथ अप्राकृतिक यौनाचार किया. घटना के कुछ देर बाद बकरी ने तड़प-तड़प कर दम तोड़ दिया. बकरी के मालिक ने इस संबंध में मामला दर्ज कराया है.

यह शर्मनाक वारदात मेवात के मरोड़ा गांव की है. जहां 8 लोगों ने हैवानियत दिखाते हुए बकरी के साथ अप्राकृतिक तौर पर इस गैंगरेप की वारदात को अंजाम दे डाला. मामले की भनक लगते ही ग्रामीणों ने गैंगरेप के तीन आरोपियों को पकड़ कर उनकी धुनाई कर दी. हालांकि भीड़ ने बाद में तीनों को पुलिस के हवाले करने के बजाय छोड़ भी दिया.

दरअसल, 25 जुलाई की रात को जुए और शराब के आदि 8 लड़के बकरी को एक सुनसान जगह पर ले गए और बकरी के साथ अप्राकृतिक दुष्कर्म कर डाला. इस हैवानियत को बेजुबान जानवर बर्दाश्त नहीं कर पाई और 26 जुलाई को बकरी ने दम तोड़ दिया. मालिक की मानें तो बकरी 2 माह की गर्भवती थी.

पुलिस ने बकरी मालिक के बयान पर मामला दर्ज कर लिया है. अब बकरी के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. पोस्टमार्टम के बाद ही सारी स्थिति साफ हो पाएगी. हालांकि इस मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है. बहरहाल, बकरी मालिक ने नगीना थाना में 8 लोगों के खिलाफ अप्राकृतिक सामूहिक बलात्कार का मामला दर्ज करवाया है. पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है.

Share this: