Home > रचनाकर्म > वो अश्लील! कविताएं जिन्होंने आजकल हिंदी पट्टी में मचा रखा है बवाल

वो अश्लील! कविताएं जिन्होंने आजकल हिंदी पट्टी में मचा रखा है बवाल

media mirror
media mirror

वर्ष 2018 को गुदावर्ष घोषित कर दो’

अंबर पांडेय और मोनिका कुमार की कविता-शृंखला ::

अंबर पांडेय की कविताएँ

मेरी प्रेमिका के गुदास्थान का विवरण

रिक्त स्थान की पूर्ति के लिए मैं इसे नहीं लिखना चाहता। अपनी प्रेमिका को यह लिखकर मैं अचंभित भी नहीं करना चाहता क्योंकि अचंभा कोई ऐसा मनोभाव नहीं जिस पर प्रेमी का एकाधिकार हो—जिस तरह उसके गुदास्थान पर मेरा अधिकार है। साहित्य के आलोचकों को चौंका देने के लिए भी मैं यह नहीं लिखना चाहता। गुदास्थान पर लिखने में समस्याएँ भी बहुत हैं, ख़ासतौर पर तब जब इसे लिखने वाला मुझ जैसा कोई धार्मिक प्रवृत्ति का व्यक्ति हो। अधिकतर बिंब खाद्य पदार्थ या धर्म संबंधित होने के कारण मेरे लिए व्यर्थ हैं।

जिसकी जिह्वा काट ली गई हो, जिसके दाँत तोड़ दिए गए हों… वैसे मुख से गुदा की उपमा दी जा सकती है, किंतु वर्तमान राजनीतिक परिस्थितियों को देखते हुए तब यह कहना पड़ेगा कि देश के बहुसंख्य लोग मुख के स्थान पर गुदा लिए हुए अपना जीवन काट रहे हैं। तब विषय गुदास्थान न होकर राजनीतिक हो जाएगा जिससे मुझे बचना है।

उसके गुदोष्ठ संसार की सबसे कोमल वस्तु हैं और स्पर्श से किंचित संकुचित और फिर फैल जाने वाले—श्याम, अरुण और हरित वर्ण। मनुष्य जाति गुदास्थान के प्रति प्राचीनकाल से ही बहुत संवेदनहीन रही है। वायु ने ही इसके प्रति हमेशा संवेदना दिखाई है। उसके गुदास्थान का व्यक्तित्व उसकी नाक की तरह ही अभिमानी, लेकिन भीतर से भावुक है और जिस तरह यह गुदाद्वार यंत्रणा का स्वागत करता है, उससे यह ज्ञात होता है कि इसकी यंत्रणा अन्य सांसारिक यंत्रणाओं से नितांत भिन्न है।

गुदा का अपमान करना संभव नहीं

वह यूरोपियन पुनर्जागरण काल के चित्र-सी
स्थिर और नग्न थी।

उसने कहा, ‘‘मुझे अपमानित करो जितना मध्यकाल में स्त्रियों को अपमानित किया जाता था, जितना दूर भारतवर्ष में अब भी स्त्रियों को अपमानित किया जाता है, जितना गुदा का अपमान किया जाता है संसार की प्रत्येक भाषा में।”

अपमान की इच्छा
अपमान से अपमान को घटा देती है।

‘‘गुदा का अपमान
करना संभव नहीं
क्योंकि गुदा का अपमान
गुदा को कंटकाकीर्ण कर देने वाले
आनंद से भर देता है’’

ऐसे ही जब उसने
अपमानित होने की इच्छा की
उसे अपमानित करने का
आनंद जाता रहा।

गुदा से स्त्री की उपमा देने पर भी उसे अपमानित नहीं कर सका।

माँगे गए अपमान को
चुंबन की तरह देना पड़ा।

बहुत समय तक अपमानित होते-होते
मनुष्य में भी गुदा जैसा लचीलापन उत्पन्न हो जाता है
मार मनमोहक लगने लगती है।

गुदा में अँगुली डालकर तुम क्या जानना चाहते हो

क्या
जानना
चाहते
हो
तुम्हारे प्रेम में मेरी भूख नष्ट हो गई?
निद्रा के विषय में गुदा मौन है

या किसी नष्टप्रायः, पुरातन छंद को
पुनर्जीवित करके तुम मेरी गुदा की उपमा
मेरे ही कमलनयनों से दोगे

हमारे आलिंगन के बहुत बीच में आए मेरे ये उन्नत स्तन
ये मेरे स्त्री होने के सबसे पुरुषोचित साक्ष्य
जिनमें जाने का मार्ग नहीं, जो अपने दसों ओर से
बंद हैं ऐसे स्तन, जो पुरुष को इतने प्रिय हैं
क्योंकि पुरुषों जैसे ही हैं

स्पर्श को लेकर
किसी सद्यप्रसूता मादाव्याघ्र की भाँति चौकन्नी
जिसमें कितना ही खोजो
जहाँ पहुँचने के कितने ही तुम प्रयत्न करो
नहीं मिलेगा तुम्हें संसार का उद्गम

यहाँ तक मेरे केवल हाथ जाते हैं
दृष्टि नहीं इसलिए यह सृष्टि से विलग है
कमल की तरह इसे भी ब्रह्मा ने नहीं रचा

अंतोनिओ ग्राम्शी की कविता

उन्होंने मुझ लोर्का बना दिया
इसलिए नहीं कि मैं कुछ लिखने का प्रयास किया करता था
इसलिए कि वे मुझे मार सकें—
गुदा पर गोली

उन्होंने कहा कि मेरी भाषा नक़ली है
क्योंकि कविता में मैं स्त्री होने का प्रयास
कविता में मैं आदिवासी होने का प्रयास
कविता में मैं मुसलमान होने का प्रयास कर रहा था
ऐसा करके वे बन गए आलोचक, बहुत प्रयास
किए उन्होंने मुझे चुप कराने के और जब मैं
चुप नहीं हुआ तो वे हो गए चुप
जैसे अन्यायी हो जाता अंतत:
जैसे राह चलते मँगते की कबीरबानी सुनकर
भीतर रियाज़ करती शास्त्रीय गायिका मौन हो जाती है
घृणा से भर उठता है उसका कंठ, उसकी शिराएँ

उनकी किताबें छप चुकी थीं
उन्होंने पुरस्कार आपस में बाँट लिए थे
जैसे गिरोह चोरी का धन बाँट लेता है
वे सरकारी अनुदान प्राप्त पत्रिकाओं में
सरकार के विरोध में लिखकर
सरकार की उचित सेवा कर रहे थे
उनका वामपंथ संगठित था कलकत्ते की पुरानी पेढ़ियों की तरह
जहाँ पर नाक रगड़े बिना कोई कवि नहीं हो सकता था
उनके पास भाषा थी, उनके पास
मृतकों की लंबी सूची थी जिस पर उन्हें
रास्ता पार करते नहीं बल्कि मंच पर
कविता पढ़ते रोना आ जाता था
मेरे पास मेरे जीवन को छोड़ कुछ नहीं था
जिसे ख़त्म करने का उनका कोई इरादा नहीं था
क्योंकि जीवन अपने आप चुक जाता है जैसे चिमनी में
नेह चुक जाता है रात्रिभर अंधकार से लड़ने के बाद
और कविता भी चाहे मुक्तिबोध की कविताओं की तरह
लंबी हो, आख़िर ख़त्म हो ही जाती है
सत्ता का विरोध करते-करते
उन्हें पता ही नहीं चला कि वे विपक्षी पार्टी हो गए हैं
वे उतने सजग नहीं थे जितने होते हैं कवि
जितने होते हैं आलोचक
वे रो नहीं रहे थे, वे रुआँसी आवाज़ में गुनगुना रहे थे—
एक कवि को गुदा पर गोली मारने का शोकगीत
वे भूल गए थे कि कवि अभी तक मरा नहीं है।

*

मोनिका कुमार की कविताएँ

[एक]

जो जीवित है वह अपनी देह में केवल दिल लिए नहीं घूमता-भटकता,
कि कोई हो जो उसके दिल को प्यार करे
उसकी देह में गुदास्थान भी है
प्रेम पाने के लिए आतुर और प्रेम का अधिकारी,
दिल का अपमान करता है कोई
तो गुदा पीड़ा से सिकुड़ जाती है
गुदा का सुख दुःख भी अटूट जुड़ा हुआ है दिल से,
कभी ऐसा नहीं हुआ दुनिया में
किसी ने किया हो दिल से प्रेम
और गुदा गौरवान्वित न हुई हो उस प्रेम में।

गुदा से प्रेम करने का अर्थ है
मनुष्य की गहराई से प्रेम करना,
उसके अँधेरों से प्रेम करना
उसके दुःख से प्रेम करना
गुदा से प्रेम करने का अर्थ है,
दुःख में केवल दुखी नहीं होना
बल्कि प्रेमी के दुःख में प्रवेश करना और उसे सुखलोक में ले जाना।
प्रेमी की निष्ठा का प्रमाण माँगना हो तो
केवल यह मत देखना कि होंठ कैसे तप जाते हैं प्रेमी के दर्शन से
दिल की धड़कन कितनी बढ़ जाती है प्रेमी के स्पर्श से
प्रेमी के लक्षणों का जब तुम करो अन्वेषण
गुदास्थान की राय भी शुमार करना
कि यह प्रेमी गुदा का मर्मज्ञ होगा या नहीं

[दो]

जीवन बीत रहा है
और अभी तक मैं गुदास्थान के चरित्र से अनजान हूँ,
अनभिज्ञता की ऐसी स्थिति में
क्या मुख लेकर जाऊँगी स्वर्ग में,
द्वारपाल पूछेंगे गुदास्थान के रहस्य
और मैं उलझी हुई व्याख्याओं से,
उनका समय और अपना भविष्य नष्ट करूँगी।

जीवन बीत रहा है
और मैं अभी भी टाल रही हूँ जीवन के वास्तविक प्रश्न,
नितंबों को अभी तक नहीं पूरी तरह अपनाया मैंने
युगों से गुदास्थान ने सहन की है अवहेलना,
आने वाले युगों में गुदास्थान की न्यायोचित प्रशंसा हो
तो उम्मीद बँधे,
मनुष्य समझदार हो रहा है
अपनी गहराइयों से अब उसे इनकार नहीं है
वर्ष 2018 को गुदावर्ष घोषित कर दो तो यक़ीन आए
अपने रहस्यों से मनुष्य अब शर्मसार नहीं है।

जीवन बीत रहा है
लेकिन भ्रम नहीं बीत रहे,
सामने वाले की नज़र में क्या है
उसे अभी आँखों से परखती हूँ,
गुदास्थान के दर्शन को अभी आत्मसात नहीं किया है।

[तीन]

मेरा गुदास्थान आतंकित और सहमा हुआ है,
वह सदमे और शोक में निराश पड़ा रहता है।

जीवन से पस्त होकर
मैनें बहुत बार कहा है कि हाथ-पैर सलामत हैं तो सब कुछ बचा हुआ है,
वंचना को सहनीय बनाने के लिए भी बहुत बार कहा है
ईश्वर ने हाथ पैर दिए हैं तो सब कुछ दिया है,
ईश्वर के प्रति कृतज्ञता के क्षणों में
गुदास्थान के निमित्त हमेशा उपेक्षा और चुप्पी बरती है।
सत्य जबकि यह है कि
मेरा अस्तित्व अब गुदास्थान में सिमट चुका है—
आतंकित, सहमा हुआ और शोकग्रस्त।

मन की बात कहने से प्रेम बढ़ते हुए नहीं देखा
मन की बात कहने से अपार घृणा अवश्य बढ़ जाती है।

मुझ में अब और घृणा सहने की हिम्मत नहीं है,
मेरा अब और संकुचन संभव नहीं
मेरा अस्तित्व अब गुदास्थान में सिमट चुका है।

गुदास्थान अस्तिव को मल की तरह समेट कर रखता है,
अस्तित्व जो अब केवल एकांत में क्रियाशील और सहज होता है।

चिता पर जब मेरा शव लिटा दिया जाए,
तो कपाल पर प्रहार करने से किंचित मत घबराना
अपराधबोध से ग्रस्त मत होना,
कपाल मृत्यु से पूर्व भी परित्यक्त और मुक्त था,
चिता पर पड़े मेरे कपाल पर प्रहार करते हुए प्रार्थना करना
मेरा बिंदुतुल्य अस्तित्व गुदास्थान से स्खलित हो जाए।

[चार]

सिर्फ़ माँ ने स्वीकार किया
कि मेरा गुदास्थान भी मैं हूँ।
उसने धोया-पोंछा
लाल हुआ तो तेल भी लगाया
माँ ने गुदा को मेरे हृदय से कम ज़रूरी नहीं समझा,
मुझे गर्भ में रखकर,
उसने रुदन करते हुए शिशु के स्वस्थ होने की प्रार्थना की
कई बार देवता केवल उच्चारित शब्दों जितना ही वर देते हैं
माँ ने शिशु के स्वस्थ हाथ-पैर और स्वस्थ हृदय की बजाय स्वस्थ शिशु का वर माँगा,
प्रार्थना निपुण मेरी माँ ने इस प्रकार मेरे स्वस्थ गुदास्थान का वर माँग लिया।
आर्द्र भाव से उसने मुझे रोज़ नहलाया-सजाया
मेरी माँ ने मेरे हृदय और गुदास्थान में कोई भेदभाव नहीं किया।

माँ की गोद के बाहर सभी कुछ खंडित है
माँ की गोद के बाहर गुदा को अपमान ही अपमान मिला,
हृदय चाहिए गुदा नहीं चाहिए
रोशनी चाहिए अँधेरा नहीं चाहिए
सहमति चाहिए असहमति नहीं चाहिए
चुंबन चाहिए पीड़ा नहीं चाहिए

प्रेमी चाहते हैं कि प्रेमिका उन्हें अपनी माँ से अधिक प्रेम करे,
प्रेमिका भी चाहती है प्रेमी को सबसे अधिक प्रेम मिले
लेकिन गुदा को प्रेम किए बग़ैर प्रेम खंडित रहने के लिए अभिशप्त रहा।
प्रेमिकाएँ बिछती रहीं हर रोज़ पलंगों पर ख़ुशी से
पर बंद आँखों से बाट जोहती रही उन प्रेमियों की,
जो गुदास्थान को उर्फ़ उसके अँधेरों को
माँ से भी अधिक प्रेम करें।

***

अंबर पांडेय और मोनिका कुमार दोनों ही हिंदी की नई नस्ल से वाबस्ता कवि-लेखक हैं। इनके पहले कविता-संग्रह इस वर्ष ‘वाणी प्रकाशन’ से आ रहे हैं। इनसे क्रमशः ammberpandey@gmail.com औरturtle.walks@gmail.com पर बात की जा सकती है।

नोटः इन कविताओं के प्रकाशन अधिकार सदानीरा डॉट कॉम के पास है। मिरर सदानीरा के सौजन्य से यहां प्रस्तुत कर रहा है। 

Share this: