Home > खबरें > इस युवा लेखक ने महिला पत्रकार से की गंदी बात, मचा बवाल

इस युवा लेखक ने महिला पत्रकार से की गंदी बात, मचा बवाल

पीड़ित महिला

मीडिया मिरर न्यूज, दिल्ली।

राजकमलप्रकाशन से पिछले वर्ष आई किताब गंदी बात के युवा लेखक क्षितिज रॉय को लेकर एक महिला पत्रकार ने गंभीर खुलासे किए हैं। महिला पत्रकार ने क्षितिज रॉय और अपनी ह्वाट्सएप चैट को फेसबुक पर सार्वजनिक कर दिया है जिसमें लेखक ने इस महिला पत्रकार से आपत्तिजनक बातचीत की है।

पूरे मामले के बाद साहित्य औऱ पत्रकारिता जगत में क्षितिज रॉय के कारनामों की जमकर निंदा की जा रही है।

पीड़िता ने जो चैट सार्वजनिक किए हैं उसमें लेखक लिखता है कि मैं तुम्हें गीला कर दूंगा। इसके अलावा गालियां देता है। साथ ही न्यूड तस्वीरें भी लेखक महिला पत्रकार को भेजा करता था। ऐसी खबरें हैं।

उल्लेखनीय है कि क्षितिज बिहारी मूल के हैं औऱ उनकी किताब को काफी प्रचार मिला था और बिहार मूल के वरिष्ठ लेखक, पत्रकारों व प्रकाशकों ने क्षितिज की काफी प्रशंसा की थी, पर इस मामले के बाद कोई भी बड़ा लेखक कुछ भी बोलने से बच रहा है।

हाल ही के दिनों में ये दूसरा मामला है जब किसी लेखक की हरकतों के बारे में महिलाओं ने सोशल साइट्स पर खुलासे किए हैं। अभी हाल ही में एक वरिष्ठ लेखक की हरकतों से तंग आकर एक महिला लेखक ने फेसबुक पर संबंधित लेखक का जिक्र करते हुए आपत्ति जाहिर की थी।

 

पीड़ित महिला
पीड़ित महिला पत्रकार व लेखक के बीच बातचीत। ये शॉट्स पीड़िता ने जाहिर किए हैं। 

पीड़िता का पोस्ट जो उन्होंने फेसबुक पर लिखा 

ये Kshitiz Roy हैं। एक-दो किताब लिखे हैं। लेखक साहब हैं। लेकिन लगता है इनको जैसी लोकप्रियता चाहिए थी, मिल नहीं पाई।
ख़ैर, तो कुछ तो करते ये कि जिससे लोगों के नज़र में आए। Talk Of The Town बनने के लिए बहुत ही सस्ता सा रास्ता अपनाया इन्होंने। इनकी फ़िलाॅसफ़ी है कि नाम पाने के लिए अगर बदनाम होना पड़े तो क्या ग़म है। और भई कहने के लिए ये भी बुद्धिजीवियों की श्रेणी में आते हैं। और बुद्धिजीवियों का कुछ ऐसा मामला है कि जब तक कोई महिला उन पर यौन शोषण का आरोप ना लगाए, उनके बुद्धिजीवी होने में कमी रह जाती है।
तो पेश है इनकी कही कुछ “गंदी बात।”
लो Kshitiz Roy कर दे रहे हैं तुमको लोकप्रिय।
हमको पहली बार में किसी को जज करने की फ़ितरत नहीं है। और तुम अच्छे से जानते हो कि ये पहली बार नहीं है। इससे पहले भी तुम बदतमीज़ी किए थे, लेकिन हम छोड़ दिए थे। ख़ैर कोई बात नहीं। हम अपने कमज़ोर लेखक-साथी का हाथ इस बार नहीं छोड़ेंगे।
और जो भी इसको जानते हैं, वो हमको ज्ञान देने की कोशिश भी ना करें। और जो इसके जिगरी हैं, वो तो हमसे दो हाथ की दूरी पर ही रहें। काहे की अब थप्पड़ पड़ेगा।
और एक काम करिएगा, इस लड़के के मां-बाप, बहन और गर्लफ्रेंड साहिबा सब फ़ेसबुक पर हैं। मेरी सूची में नहीं हैं वरना टैग कर देते। जिसके में हैं वो कृपया कर के उन्हें यहां टैग कर दें।
अकंल-आंटी , आपका लाडला अपने फ़्लाॅप करियर से पूरी तरह Frustrate हो चुका है। हवा-पानी बदलिए इसका। और हो सके तो किसी मोटिवेशनल स्पीकर से बात करवाईए इसकी। तब शायद कुछ हो पाए इसका।
Get Well Soon, Kshitiz.

 

पूरे मामले में क्या कहती हैं महिलावादी कार्य़कर्ता, लेखक व पत्रकार रीवा सिंह 

किताबें लिख भर देने से कोई साहित्यकार नहीं हो जाता है। साहित्यकार तो बिक्री से भी नहीं होना चाहिए लेकिन होता यही है। कोई नवागंतुक जब इस ओर कदम बढ़ाता है तो हम सभी हौसला-अफ़ज़ाई करते हैं। फिर जब अचानक कोई ऐसी चीज़ दिखती है तो तमाम बातें याद आती हैं, उससे जुड़े लोग याद आते हैं और हम मुंह के बल गिर जाते हैं।

क्षितिज रॉय की ‘गंदी बात’ अगर आपने न पढ़ी हो तो अब समीक्षा पढ़कर ही पढ़िएगा। वो तो महज़ एक किताब है, उनके दिमाग की तमाम गंदी बातें कैसे बजबजा रही हैं उसका एक नमूना पेश है।

साहबज़ादे मिलने की इच्छा व्यक्त करते हैं, न्यूड तस्वीरें भेजते हैं वो भी उसे जिसे उनमें दिलचस्पी है ही नहीं। लड़की परेशान होती है, ब्लॉक करती है। फिर किन्हीं तकनीकी कारणों से जब वो अनब्लॉक होते हैं तो ये सब शुरू कर देते हैं। उनसे जुड़े तमाम अच्छे लोग याद आ रहे हैं, एक प्यारी बच्ची याद आ रही है जो सालों पहले फेसबुक जैसे प्लैटफ़ॉर्म पर ख़ुद को उसकी प्रेमिका बताने में हिचकती नहीं है। वो अभिभावक याद आ रहे हैं जो सोच ही नहीं सकते कि उनके सुपुत्र वॉट्सऐप पर ऐसी ”कालजयी” रचनायें भी कर सकते हैं।

तुमने हम सभी को बहुत निराश किया है क्षितिज। तुम वाकई सज़ा के क़ाबिल हो।

पीड़िता ने लम्बे समय से तुम्हारी बद्तमीज़ियां झेली हैं, कुढ़ी है, परेशान रही है। अब जब पानी सिर से ऊपर निकल गया है तो उसे यह कदम उठाना पड़ा। यहां लड़कियों का जीना इतना दुश्वार क्यों है ! उसे कानूनन यह लड़ाई लड़नी चाहिए। हम सभी साथ हैं।

हर आदमी में होते हैं दस बीस आदमी
जिस को भी देखना हो कई बार देखना।

 

नोटः पीड़िता की निजता का सम्मान करते हुए मिरर उनकी पहचान गुप्त रख रहा है।

Share this: