Home > खबरें > आरएसएस का ट्रेनिंग स्कूल बन गया था माखनलाल पत्रकारिता विवि – कमलनाथ

आरएसएस का ट्रेनिंग स्कूल बन गया था माखनलाल पत्रकारिता विवि – कमलनाथ

कमलनाथ, मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश
कमलनाथ, मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश
  • खुले मंच पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने माखनलाल पत्रकारिता विश्वविद्यालय के प्रोफेसर्स को लगाई फटकार
  • माखनलाल विश्वविद्यालय में मुख्यमंत्री के खुलेआम गुस्से के बाद मची खलबली

भोपाल (ईएमएस)।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि भोपाल स्थित माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का ट्रेनिंग स्कूल बन गया था। ‘ऑफ द कफ विद शेखर गुप्ता’ नामक कार्यक्रम में बतौर अतिथि आमंत्रित कमलनाथ ने कहा कि माखनलाल में पढ़ाने वाले प्रोफेसर 70-80 हजार रुपए प्रतिमाह लेकर नोएडा में बैठे थे, उन्होंने एक सिंगल लेक्चर भी नहीं लिया। उन्होंने आरोप लगाया है कि यह संघ का मंतव्य साधने का एक राजनीतिक उपकरण था, यद्यपि संघ के बारे में यह कहा जाता है कि यह एक गैर राजनीतिक संगठन है।
कमलनाथ ने कहा कि 15 साल सत्तासीन रही भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने सरकारी खजाने का उपयोग अपने राजनीतिक मंसूबों को पूरा करने के लिए किया, जिसकी जांच जन आयोग द्वारा करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि वे मात्र 17 दिन अपने ऑफिस में रहे हैं इस दौरान उन्हें बहुत सारी कमियां और अनियमितताओं का पता चला है।लंबे साक्षात्कार के दौरान कमलनाथ ने देश में बदलते राजनीतिक माहौल पर बेबाकी से अपने विचार व्यक्त किए।

बड़ी खबर यहां पर सूत्रों से ये मिल रही है कि माखनलाल विश्वविद्यालय के नोएडा कैंम्पस को बंद करने की योजना पर विचार किया जा रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि माखनलाल विवि राज्य विश्वविद्यालय है और इसकी शाखाएं मध्यप्रदेश में ही होना चाहिए। इसके साथ ही मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने खुले मंच पर जब माखनलाल विश्वविद्यालय और उसके प्रोफेसर्स की लापरवाहियों का जिक्र किया है तो इसके सख्त नतीजें देखने को मिल सकते हैं। उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार आते ही पहली कार्रवाई माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता व जनसंचार विश्वविद्यालय में हुई औऱ कुलपति और कुलसचिव ने तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दे दिया है। बांकी स्वयं मुख्यमंत्री एक विश्वविद्यालय पर इस तरह नाराज हैं कि खुले मंचों पर उनका गुस्सा जाहिर हो रहा तो ऐसे में माखनलाल विश्वविद्यालय में बड़ी कार्रवाई के कयास लगाए जा रहे हैं। संभव है बीजेपी सरकार के दौरान हुई नियुक्तियों की जांच हो।

Share this: