Home > खबरें > कविता लिखी और मृत्युदंड से बच गया, है न कमाल

कविता लिखी और मृत्युदंड से बच गया, है न कमाल

दिल्ली हाईकोर्ट
कोर्ट

नई दिल्ली
सुप्रीम कोर्ट ने एक बच्चे की हत्या के जुर्म में मौत की सजा पाए एक दोषी की सजा को उम्रकैद में बदल दिया। कोर्ट ने कहा कि वह सुधरना चाहता है। जेल के अंदर उसने जो कविताएं लिखी हैं, उससे पता चलता है कि उसे अपनी गलती का अहसास है। जस्टिस एके सीकरी की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि दनेश्वर सुरेश बोरकर ने जब अपराध किया था, वह 22 साल का था।

अदालत ने कहा कि जेल के रहने के दौरान उसने ‘समाज से जुड़ने’ का और ‘शिक्षित व्यक्ति’ बनने का प्रयास किया। जज एस अब्दुल नजीर और जज एमआर शाह भी इस बेंच का हिस्सा थे। उन्होंने भी कहा कि बोरकर पिछले 18 वर्षों से जेल में है और उसका आचरण दिखाता है कि उसमें सुधार लाया जा सकता है। उसका पुनर्वास हो सकता है।

इससे पहले बोरकर ने बंबई हाई कोर्ट के 2006 मई के आदेश को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी थी। हाई कोर्ट ने एक नाबालिग बच्चे की हत्या के जुर्म में निचली अदालत की ओर से सुनाई गई मौत की सजा के बरकरार रखा था। दोषी के वकील ने कोर्ट में अपने तर्क में कहा था कि जेल में बोरकर का आचरण बेहद अच्छा है, उसने जेल में अपनी पढ़ाई पूरी की और एक शिक्षित इंसान बनने की कोशिश की।

Share this: