Home > खबरें > पुण्य प्रसून वाजपेयी को समझिए, कुछ कह रहे हैं

पुण्य प्रसून वाजपेयी को समझिए, कुछ कह रहे हैं

वरिष्ठ टीवी पत्रकार पुण्य प्रसून वाजपेयी।
वरिष्ठ टीवी पत्रकार पुण्य प्रसून वाजपेयी।

अगर काबीलियत की बात है तो  पुण्य प्रसून वाजपेयी भारत के उन चुनिंदा टीवी पत्रकारों में से एक हैं या कहें एक ही हैं जिन्हें किसी से सर्टिफिकेट की आवश्यक्ता नहीं। बावजूद प्रसून को टीवी चैनल लगातार नौकरी से बाहर निकाल रहे हैं। ये बात गौरतलब है। भारत में टीवी पत्रकारिता का इतिहास जब लिखा जाएगा तो ये बात जरूर सामने आएगी कि भारत के समकालीन श्रेष्ठ पत्रकारों में से एक पुण्य प्रसून वाजपेयी को 4 महीने में तीसरे चैनल ने बाहर का रास्ता दिखाया औऱ उन्हें नौकरी के लाले पड़ गए। जैसा आप सब जानते हैं कि हाल ही में पुण्य प्रसून ने अपने कद के हिसाब से बेहद अदना सा चैनल ज्वाइन किया, बावजूद वहां एक महीने से पहले ही उन्हें निकाल दिया गया। निकाले जाने की वजह एक बार फिर केंद्र की सरकार से खिलाफत बताई जा रही है प्रसून भाई की। चैनल उन्हें पचा नहीं पाया औऱ उगल दिया। 

बहरहाल पुण्य प्रसून वाजपेयी ने अपने अधिकारिक फेसबुक पेज पर 19 मार्च से क्रमशः कुछ लिखा है टुकड़ों में। हमने जोड़ दिया। प्रसून का ये लिखा काफी कुछ कहता है, पढ़िए औऱ समझिए।  

 

रात को रात कह दिया मैं ने…
सुनते ही बौखला गई दुनिया..

ये मत पूछो कि कैसा आदमी हूँ
करोगे याद, ऐसा आदमी हूँ

हज़ार बर्क़ गिरे लाख आँधियाँ उट्ठें
वो फूल खिल के रहेंगे जो खिलने वाले हैं

भले ही काट दो बाजू हमारे
कलम का सर कलम होता नही

क्या सरकार से सवाल पूछना गलत है…..

मे सत्य के साथ हु….

पीछे नही हटेगे….

इंकलाब….

250 करोड़ की डील….
“जयहिन्द”

कलम आज़ाद है मेरी…..

लब आज़ाद है मेरे…..

झुकेगे नही

 

 

 

मिरर उनके साथ है। और जैसा कि पुण्य प्रसून को जरूरत है कि उनके स्वतंत्र पत्रकारिता को जीवित रखा जाए। इसके लिए आप उनका यू ट्यूब चैनल देखें। नीचे लिखी अपील पुण्य प्रसून की ही है।

अब आप हमारे you tube channel से जुडे
ओर हमारे channel को subscribe करे

https://www.youtube.com/channel/UCcgC3P2jazQ7fGfUCkr0b8A

Share this: