Home > खबरें > पत्रकार चिराग पटेल की मौत हादसा नहीं साज़िश

पत्रकार चिराग पटेल की मौत हादसा नहीं साज़िश

चिराग पटेल
चिराग पटेल

अहमदाबादः 

टीवी पत्रकार चिराग पटेल मामले में एक नया मोड़ आ गया है। चिराग पटेल की मौत कोई हादसा नहीं बल्कि क़त्ल है, ये खुलासा पोस्टमॉर्टेम रिपोर्ट आने के बाद हुआ है। तीन दिन पहले 26 वर्षीया पत्रकार चिराग का शव अहमदाबाद के कठवाड़ा नहर के पास जले हुए हालत में मिली थी। चिराग के परिवार वालों ने 15 मार्च को उनकी मिसिंग रिपोर्ट लिखवाई थी।

मामले की तफ्तीश कर रही अहमदाबाद पुलिस ने टेलिविजन पत्रकार चिराग पटेल की मौत के मामले में पुलिस ने एफआईआर में अब हत्या की धाराएं भी शामिल कर ली हैं। चिराग पटेल ‘TV9’ के गुजराती चैनल में कॉपी एडिटर के पद पर कार्यरत थे। हालांकि शुरुआत तफ्तीश में खुद पुलिस इसे महज एक दुर्घटना बता रही थी, लेकिन जांच के दौरान पता चला कि शरीर पर जले के निशान हैं और मोबाइल फोन भी गायब है। इसके बाद शक होने पर पुलिस ने हत्या की आशंका जताते हुए एफआईआर में हत्या की धारा भी जोड़ दी है।

इस मामले में चिराग के भाई जैमिन ने पुलिस में एफआईआर दर्ज कराई थी। जैमिन ने एफआईआर में बताया कि 15 मार्च की शाम करीब पौने पांच बजे उसकी चिराग से आखिरी बार बात हुई थी। इसके बाद से चिराग से उनका संपर्क नहीं हुआ था।

पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर सभी पहलुओं से जांच शुरू कर दी है। पुलिस फिलहाल चिराग पटेल की फोरिंसक रिपोर्ट के साथ ही उसके मोबाइल फोन की कॉल डिटेल का इंतजार कर रही है।

सोशल मीडिया पर भी लोगों #Justice4Chirag की मुहीम शुरू कर दी है। कई बड़े कोंग्रेसी नेताओं ने इस पूरे मामले में उच्च स्तरीय जाँच की मांग की है। पटेल नेता हार्दिक पटेल को किसी बड़ी साज़िश का अंदेशा है।

  • चौथी दुनिया की रिपोर्ट
Share this: