Home > खबरें > साहित्य अकादमी पुरस्कार 2019 की पूरी सूची देखिए

साहित्य अकादमी पुरस्कार 2019 की पूरी सूची देखिए

लेखक
नंदकिशोर आचार्य

नई दिल्ली ( एचटी मीडिया)-

साहित्य अकादमी ने हिन्दी के लिए नंदकिशोर आचार्य, अंग्रेजी के लिए सांसद डॉ शशि थरूर, उर्दू के लिए प्रो. शाफे किदवई और पंजाबी भाषा के लिए किरपाल कज़ाक समेत 23 भारतीय भाषाओं के रचनाकारों को वर्ष 2019 का प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी पुरस्कार देने की बुधवार (18 दिसंबर) को घोषणा की। एक बयान में साहित्य अकादमी के सचिव के. श्रीनिवासराव ने बताया कि सात कविता-संग्रह, चार उपन्यास, छह कहानी-संग्रह, तीन निबंध संग्रह, एक-एक कथेतर गद्य, आत्मकथा और जीवनी के लिए साहित्य अकादेमी पुरस्कार घोषित किए गए है। उन्होंने बताया कि पुरस्कारों की अनुशंसा 23 भारतीय भाषाओं की निर्णायक समितियों द्वारा की गई तथा साहित्य अकादेमी के अध्यक्ष डॉ. चंद्रशेखर कंबार की अध्यक्षता में आयोजित अकादमी के कार्यकारी मंडल की बैठक में बुधवार (18 दिसंबर) को इन्हें अनुमोदित किया गया।

श्रीनिवासराव ने बताया कि अंग्रेजी में कथेतर गद्य ‘एन एरा ऑफ डार्कंनेस’ के लिए थरूर को साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाजा जाएगा। थरूर कांग्रेस नेता हैं और केरल की तिरुवनंतपुरम सीट से लोकसभा सदस्य हैं। उन्होंने बताया कि हिन्दी में नंदकिशोर आचार्य को उनके कविता संग्रह ‘छीलते हुए अपने को’ के लिए प्रतिष्ठित पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। राव के मुताबिक, ‘सवनेह-सर सैयद : एक बाज़दीद (जीवनी)’ के लिए किदवई को पुरस्कृत किया जाएगा।

इसके अलावा, असमिया में जयश्री गोस्वामी महंत को ‘चाणक्य (उपन्यास), मणिपुरी में बेरिल थंगा (एल. बिरमंगल सिंह) को ‘ई अमादी अदुनगीगी ईठत (उपन्यास), तमिल में चो. धर्मन को ‘सूल’ (उपन्यास), और तेलुगु में बंदि नारायणा स्वामी को ‘सेप्ताभूमि’ (उपन्यास) के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार दिया जाएगा। श्रीनिवासराव ने कहा कि बोडो में फुकन चन्द्र बसुमतारी को ‘आखाइ आथुमनिफ्राय’ (कविता), कोंकणी में निलबा आ. खांडेकार को ‘ध वर्डस्’ (कविता), मैथिली में कुमार मनीष अरविन्द को ‘जिनगीक ओरिआओन करैत’ (कविता), मलयालम में वी. मधुसूदनन नायर को ‘अचन पिरन्ना वीदु’ (कविता), मराठी में अनुराधा पाटील को ‘कदाचित अजूनही’ (कविता), संस्कृत में पेन्ना-मधुसूदनः को ‘प्रज्ञाचाक्षुषम्’ (कविता) के लिए प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी पुरस्कार प्रदान किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि कहानी संग्रह के लिए अब्दुल अहद हाज़िनी (कश्मीरी) को ‘अख़ याद अख़ कयामत’, तरुण कांति मिश्र (ओड़िया) को ‘भास्वती’, किरपाल कज़ाक (पंजाबी) को ‘अंतहीन’, रामस्वरूप किसान (राजस्थानी) को ‘बारीक बात’, काली चरण हेम्ब्रम (संथाली) को ‘सिसिरजली’, ईश्वर मूरजाणी (सिंधी) को ‘जीजल’ के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। सचिव के मुताबिक, बाड्ला में ‘घुमेर दरजा थेले’ (निबंध) के लिए चिन्मय गुहा को, डोगरी में ‘बंदरालता दर्पण’ (निबंध) के लिए ओम शर्मा जन्द्रयाड़ी को, गुजराती में ‘मोजमा रेवुं रे !’ (निबंध) के लिए रतिलाल बोरीसागर को इस साल का साहित्य अकादमी पुरस्कार दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि कन्नड़ में विजया को ‘कुड़ी एसारू’ (आत्मकथा) के लिए प्रतिष्ठित पुरस्कार दिया जाएगा।

श्रीनिवासराव ने बताया, ”इन पुस्तकों को संबंधित भाषा के त्रिसदस्यीय निर्णायक मंडल ने निर्धारित चयन-प्रक्रिया का पालन करते हुए पुरस्कार के लिए चुना है। नियमानुसार कार्यकारी मंडल ने निर्णायकों के बहुमत के आधार पर अथवा सर्वसम्मति के आधार पर चयनित पुस्तकों के लिए आज पुरस्कारों की घोषणा की है।” उन्होंने कहा कि पुरस्कार एक जनवरी 2013 से 31 दिसम्बर 2017 के दौरान पहली बार प्रकाशित पुस्तकों को दिया गया है। साहित्य अकादेमी पुरस्कार के रूप में एक उत्कीर्ण ताम्रफलक, शॉल और एक लाख रुपये की राशि प्रदान करेगी। घोषित पुरस्कार 25 फरवरी 2020 को दिल्ली में आयोजित एक विशेष समारोह (साहित्योत्सव) में दिए जाएंगे।

Share this: