Home > रचनाकर्म > पत्रकार संगठनों की जवाबदेही का दौर..

पत्रकार संगठनों की जवाबदेही का दौर..

प्रशांत राजावत, सम्पादक मीडिया मिरर

एडीटर अटैक-

हमारा देश इस समय कोरोना महामारी की चपेट में है। देश समेत सारा विश्व भयंकर मंदी से घिरने वाला है,  ऐसी आशंका संयुक्त राष्ट्र जता चुका है। भारत भी मंदी के कहर से अछूता नहीं है। मंदी औऱ बेरोजगारी का दौर शुरू हो गया है। तमाम क्षेत्रों के साथ मीडिया के क्षेत्र में भी मंदी का असर दिखने लगा है। लगातार खबरें मिल रही हैं कि विभिन्न मीडिया संस्थानों से पत्रकारों को निकालने का क्रम शुरू हो गया है। छंटनी शुरू है। इसके साथ ही पत्रकारों के वेतन में कटौती की भी बात सामने आ रही है।

इस समय जब लोगों को आर्थिक सुरक्षा देने की जरूरत है। पत्रकारों को निकाला जा रहा है। उनके वेतन में कटौती प्रबंधन द्वारा की जा रही है। यही वो दौर है जब पत्रकार संगठन मजबूती से सामने आएं और अपनी जवाबदेही सुनिश्चित करें। ये एकदम माकूल समय है जब देशभर के तमाम पत्रकार संगठन एकजुट होकर एकमंच पर आएं और सरकार से मांग करें कि पत्रकारों को जॉब सिक्योरिटी का भरोसा दिया जाए। पत्रकार संगठनों को चाहिए कि केंद्र सरकार, प्रदेश सरकारों के सामने मजबूती से अपना पक्ष रखें और ये आदेश पारित करवाएं कि कोरोना से मरने वाले पत्रकार के परिजनों को एक निश्चित धनराशि दी जाएगी। इस कठिन समय में काम करने वाले प्रत्येक पत्रकार का मेडिकल बीमा सुनिश्चित हो। मीडिया संस्थानों को सख्त आदेश दिए जाएं कि किसी भी पत्रकार को नौकरी से न निकाला जाए।

पत्रकार संगठनों के पदाधिकारी ये जान लें कि यही वो दौर है जब आप पत्रकारों के भरोसे को जीत सकते हैं। आपनी खोयी साख वापस पा सकते हैं। आप बता सकते हैं कि आप पत्रकारों के हितों के लिए सदैव खड़े हैं। आप कर सकते हैं। और करिए। यही समय है। एक जुट होइए और तत्काल आदेश पारित करवाइए जिसमें प्रत्येक कामकाजी पत्रकार के लिए मेडिकल बीमा औऱ संस्थानों से किसी पत्रकार को न निकालने की बात हो। और निकाले गए पत्रकारों को वापस काम पर रखा जाए।

वरना लानत है आप पर, जो आप पत्रकार हितों की बात करते हुए पत्रकार संगठन होने का ढिढोंरा पीटते हैं। इतना ही नहीं मेरी व्यक्तिगत राय है कि देश के प्रमुख पत्रकार संगठन ये सुनिश्चित करें कि जो भी फंड उनके पास है उससे वो उस पत्रकार के परिजनों को आर्थिक सहायता प्रदान करेंगे जो इस विपदा की घड़ी में किसी अनहोनी का शिकार हो जाए।

डॉ. प्रशांत राजावत, सम्पादक मीडिया मिरर 

Share this: