Home > खबरें > हिंदी के आलोचक डॉ. नंद किशोर नवल का निधन

हिंदी के आलोचक डॉ. नंद किशोर नवल का निधन

नवल किशोर
डॉ नवल किशोर

हिंदी के प्रख्यात एवं विद्वान आलोचक डॉ. नंद किशोर नवल का आज रात पटना में निधन हो गया।

* वह 82 वर्ष के थे।

* आलोचक डॉ नामवर सिंह के सहयोगी श्री नवल ने उनके साथ ‘आलोचना’ पत्रिका का सम्पादन किया था।

* उन्होंने ‘निराला रचनावली’, ‘रुद्र रचनावली’ और ‘दिनकर रचनावली’ का भी सम्पादन किया तथा महावीर प्रसाद द्विवेदी के ‘मुक्तिबोध’ पर महत्वपूर्ण किताबें लिखी थी।

* पटना विश्व विद्यालय में हिंदी विभाग के अध्यक्ष से सेवानिवृत्त होकर वे स्वतंत्र लेखन कर रहे थे।

* उन्होंने 1980 के आरंभ में ‘धरातल’ नामक पत्रिका निकाली थी। बाद में ‘कसौटी’ भी।

* उन्हें रामचन्द्र शुक्ल सम्मान और दिनकर सम्मान भी मिला था।

* उनकी 20 किताबें आलोचना संसार की ख़ास किताबें मानी जाती रही हैं।

* अन्य प्रमुख किताबें हैं : कविता की मुक्ति, हिन्दी आलोचना का विकास, प्रेमचंद का सौदर्य शास्त्र, शब्द जहाँ सक्रिय हैं, यथाप्रसंग, समकालीन काव्य-यात्रा, मुक्तिबोध – ज्ञान और संवेदना, निराला और मुक्तिबोध: चार लंबी कविताएँ, दृश्यालेख, मुक्तिबोध, निराला कृति से साक्षात्कार;शताब्दी की कविता, निराला- काव्य की छवियॉं, कविता के आर-पार, कविता: पहचान का संकट, मुक्तिबोध की कविताएँ: बिंब-प्रतिबिंब, क्रमभंग, निकष, उत्तर-छायावाद और रामगोपाल शर्मा ‘रूद्र’

Share this: