Home > खबरें > मीडिया मिरर वीकली न्यूज बुलेटिन

मीडिया मिरर वीकली न्यूज बुलेटिन

दैनिक भास्कर भोपाल की नवनियुक्त स्थानीय संपादक उपमिता वाजपेयी मिश्रा

दैनिक भास्कर की पहली महिला सम्पादक बनीं उपमिता बाजपेयी। उपमिता को दैनिक भास्कर भोपाल के स्थानीय संपादक की जिम्मेदारी दी गई है। बताते चलेंकि उपमिता मूलरूप से इंदौर से हैं। एक दशक से ज्यादा समय से भास्कर से जुड़ी हुई हैं, फिलहाल भास्कर के नेशनल न्यूज रूम में प्रिंसिपल करपोंडेंट थीं। उपमिता बाजपेयी ने भास्कर में रहते हुए रक्षा क्षेत्र को कवर करते हुए तमाम शानदार खबरें ब्रेक की हैं। उन्हें रक्षा मामलों का जानकार कहा जा सकता है। उपमिता के पति प्रसून मिश्रा भी भास्कर में न्यूज ए्डीटर हैं।


न्यूज एजेंसी पीटीआई की उस खबर को सेना ने नकार दिया है जिसमें उसने कहा था कि भारतीय सेना ने पीओके में एयर स्ट्राइक की थी। इसके बाद देशभर में बवाल मच गया है। 19 नवम्बर को पीटीआई के सोर्स को आधार बनाकर देश की शीर्ष मीडिया ने पाक में एयर स्ट्राइक की खबरें ब्रेक की थीं। हालांकि सेना के खंडन के बाद पीटीआई की भी सफाई आ गई है। पीटीआई का कहना है कि हमारे इनपुट को चैनल वालों ने गलत तरीके से समझा।

……………………………………

दिल्ली के पत्रकार पंकज शुक्ला की कोरोना से मौत। वो राजसत्ता एक्सप्रेस के प्रधान सम्पादक थे। मूलरूप से बरेली के थे। कई प्रमुख चैनलों में वरिष्ठ पदों पर रहे हैं।

……………………………………………

उत्तरप्रदेश के फतेहपुर जिले में दो पत्रकारों के खिलाफ कथित फर्जी रेप की खबर चलाने के मामले में एफआईआर दर्ज की गई है। पुलिस का कहना है कि दो बहनों के शव तालाब के किनारे मिले थे।  पुलिस जांच कर रही थी और पाया कि दोनों की मौत तालाब में डूबने से हुई लेकिन पत्रकारों ने रेप की खबरें प्रकाशित कीं और बलात्कार  होने का दावा किया। दोनों पत्रकारों में से एक स्वतंत्र पत्रकार है तो दूसरा स्थानीय चैनल का पत्रकार है। घटना 16 नवम्बर की है।

………………………………………

सुदर्शन टीवी के विवादास्पद कार्य़क्रम बिंदास बोल के एपीसोड यूपीएससी जिहाद कार्य़क्रम की सुनवाई करने से दिल्ली हाईकोर्ट ने इंकार कर दिया है, हाईकोर्ट ने कहा है कि केस सुप्रीमकोर्ट में है, इसलिए हाईकोर्ट अलग से सुनवाई नहीं करेगा। वहीं इस कार्य़क्रम को लेकर सूचना प्रसारण मंत्रालय ने कहा है कि ये कार्यक्रम अपमानजनक है, जो सांप्रदायिक माहौल व सद्भाव को खराब करता है। इसे बदलाव के साथ प्रसारित करने की अनुमति देने की बात कही है। गौरतलब है कि सुदर्शन टीवी के प्रधान संपादक बिंदास बोल नाम से कार्य़क्रम प्रसारित करते हैं, इसमें एक एपीसोड का नाम उन्होंने यूपीएससी जिहाद रखा था जिसमें उनका दावा था कि वो खुलासा करेंगे कि कैसे सिविल सर्विस में मुस्लिमों ने धांधली की है। तभी से इसका विरोध शुरू हुआ व कई याचिकाएं कोर्ट में लगाई गईं कार्यक्रम के विरोध में औऱ इसका प्रसारण रोक दिया गया। बीते 15 सितंबर को बिंदास बोल के प्रसारण पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगाई थी।

……………………..

द शिलांग टाइम्स की संपादक पेट्रिशिया मुखीम ने एडिटर गिल्ड्स की सदस्यता छोड़ी। उनका कहना है कि एडिटर गिल्ड्स केवल सेलिब्रिटी पत्रकारों के साथ खड़ी होती है। गौरतलब है कि फेसबुक में एक टिप्पणी के संदर्भ में मुखीम पर एफआईआर दर्ज हुई है जिसमें उन्हें सांप्रदायिक सौहाद्र बिगाड़ने का दोषी माना गया। हाईकोर्ट ने भी उनकी एफआईआऱ रद्द करने से मना कर दिया। इसी मामले में किसी का साथ न मिलने से व्यथित मुखीम ने एडिटर गिल्ड्स को आड़े हाथों लेते हुए सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। ये महज एक संयोग ही है कि फिलहाल एडिटर गिल्ड्स की प्रमुख एक महिला पत्रकार ही हैं। नाम है सीमा मुस्तफा।

………………..

अर्नब गोस्वामी को जमानत देने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर कामेडियन कुनाल कामरा ने टवीटर पर टिप्पणी की थी जिसे कोर्ट ने न्यायालय की अवमानना समझा है और कामरा से माफी मांगने की बात कही है। जिसके जवाब में कुनाल कामरा ने कहा है कि अच्छी बात है सुप्रीम कोर्ट तमाम जरूरी मुद्दों केसों पर ध्यान देने की वजाय मेरे ट्वीट पढ़ता है। मैं न माफी मांगूगा और न ही जुर्माना भरूंगा।

…………………………..

आत्महत्या के लिए मजबूर करने के मामले में जेल से छूटने के बाद रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक ने उग्र प्रदर्शन करते हुए रोड शो किया औऱ घोषणा की है कि रिपब्लिक चैनल को वो वैश्विक चैनल बनाएंगे। इस कड़ी में वो सबसे पहले देश के हर राज्य में रिपब्लिक टीवी का विस्तार करेंगे।

………………………………..

डिजिटल मीडिया पर नियंत्रण करने के लिए कानून लाएगा केंद्र

……………………….

बीबीसी के पत्रकार व संवाददाता को लॉकडाउन के दौरान एक फेसबुक लाइव के लिए अंतरराष्ट्रीय पुरुस्कार के लिए नामांकित किया गया है। गौरतलब है कि संवाददाता सलमान रावी ने रिपोर्ट के दौरान दिल्ली में देखा कि राहगीर के पैर में चप्पल नहीं है तो उन्होंने कवरेज के दौरान ही अपने जूते राहगीर को पहना दिए थे। इसी मानवता से जुड़ी भावनाओं के मामले में उन्हें पुरस्कार मिला है।

……………………………………..

न्यूयार्क में रह रहे डगलस स्टुअर्ट को उनके पहले उपन्यास शगी बेन के लिए वर्ष 2020 का बुकर पुरस्कार मिला। भारतीय मूल की लेखिका अवनी दोशी समेत 6 लोग इस पुरस्कार के लिए इस साल नामित हुए थे।

………………………………

मीडिया इनसाइट कंसल्टिंग फर्म की रिपोर्ट है कि लॉकडाउन के दौरान या कहें इस वर्ष प्रिंट मीडिया के प्रति लोगों में भरोसा बढा है।

…………………………………………..

न्यूज ब्राडकॉस्ट एसोसिएशन की नई कार्यकारिणी गठित की गई है। अध्यक्ष इंडिया टीवी के रजत शर्मा व उपाध्यक्ष न्यूज 24 की मालकिन अनुराधा शुक्ला हैं। शेष टीम इस प्रकार है।

टाइम्स नेटवर्क के सीईओ एमके आनंद कोषाध्यक्ष बनाए गए. एनबीए बोर्ड में अविनाश पांडेय (सीईओ एबीपी नेटवर्क), राहुल जोशी (एमडी, टीवी18 ब्रॉडकास्ट), कली पुरी (एमडी, टीवी टुडे नेटवर्क), सोनिया सिंह (एडिटोरियल डायरेक्टर-एनडीटीवी), सुधीर चौधरी (सीईओ-क्लस्टर1-जी मीडिया), आई वेंकट (डायरेक्टर-इनाडु टेलिविजन), एमवी श्रेयम्स कुमार (एमडी, मातृभूमि प्रिंटिंग एंड पब्लिशिंग)

Share this: