Home > खबरें > वीकली बुलेटिनः राजदीप सरदेसाई पर हुई कार्रवाई

वीकली बुलेटिनः राजदीप सरदेसाई पर हुई कार्रवाई

राजदीप सरदेसाई

इंडियो टुडे चैनल में काम कर रहे वरिष्ठ टीवी पत्रकार राजदीप सरदेसाई पर कार्रवाई हुई है। उन्हें एक हफ्ते के ऑनएयर किए जाने की खबरें हैं। ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि उन पर आरोप है कि उन्होंने ट्वीटर पर भ्रामक सूचनाएं फैलाई हैं। उनकी सैलरी भी काटे जाने की खबर है।

………………………..

जाने माने अर्थिक पत्रकार प्रंजय गुहा ठाकुरता के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया है। ठाकुरता को 2017 में लिखे गए एक आर्टिकल के लिए गिरफ्तारी वारंट मिला है। अर्टिकल में अडानी ग्रुप का मानहानि हुई है ऐसा दावा अडानी समूह ने किया है।

…………………………………

तांडव वेबसीरीज के लेखक, निर्माता व कलाकार को सुप्रीम कोर्ट से भी झटका लगा है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि स्क्रिप्ट पढ़ने के बाद ही तो कलाकारों ने फिल्म के लिए हामी भरी होगी, तब भी नहीं लगा कि स्क्रिप्ट में धर्म विशेष व उनकी भावनाएं आहत हो सकती हैं। कोर्ट ने कहा कि कला के नाम पर ये आजादी नहीं दी सकती। गौरतलब है कि तांडव वेबसीरीज को लेकर हंगामा हो गया था, इसमें हिंदू धर्म के खिलाफ सामग्री को लेकर कई एफआईआर हुईं। उत्तरप्रदेश पुलिस तांडव के लेखक , निर्माता व एक कलाकार को गिरफ्तार करने के लिए गिरफ्तारी वारंट भी जारी कर चुकी है। उसी वारंट पर रोक लगाने के लिए वेब सीरीज की निर्माता कंपनी अमेजन प्राइम ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी, उसी की सुनवाई के दौरान एक बार फिर तांडव से जुड़े लोगों को झटका लगा है।

……………………………

चीनी एप टिकटॉक ने भारत में कारोबार पूरी तरह से बंद किया। दो हजार लोगों की नौकरी गई।

…………………….

कानपुर देहात जिले में तीन पत्रकारों पर केस दर्ज किया गया है। दरअसल स्थानीय चैनल में काम करने वाले इन पत्रकारों ने एक खबर चलाई थी कि सरकारी स्कूल में छात्रों से कड़ाके की सर्दी में गर्म कपड़े उतरवाकर योग करवाया गया। जिसे लेकर बेसिक शिक्षा अधिकारी ने पुलिस ने पत्रकारों के खिलाफ एफआईआर करवाई। उनका कहना था कि योग गर्म पकड़ों में नहीं हो सकता। हमने थोड़ी देर के लिए कपड़े हटवाए थे औऱ फिर पहनवा दिए। पत्रकार बगैर मौके पर मौजूद ऐसी भ्रामक खबरें दे रहे हैं।

………………………………………

रिपब्लिक टीवी की ओर से इंडियन एक्सप्रेस अखबार समूह को लीगल नोटिस भेजा गया है। नोटिस उस खबर के लिए भेजा गया है जिसमें इंडियन एक्सप्रेस ने कहा है कि बार्क की पूर्व सीईओ को रिपब्लिक के प्रधान संपादक अर्णव गोस्वामी ने टीआरपी बढ़ाने के लिए पैसा दिया था। रिपब्लिक टीवी की ओर से कहा गया है कि ये खबर आपकी पत्रकारिता को लेकर गिरती नैतिकता की ओर संकेत करती है।

………………..

टीआरपी हेराफेरी मामले में मुंबई पुलिस द्वारा दायर चार्जशीट के अनुसार बार्क के पूर्व सीईओ पार्थो दासगुप्ता ने कहा है कि उन्हें टीआरपी से छेड़छाड़ करने के एवज में रिपब्लिक के एडिटर इन चीफ अर्णब गोस्वामी से तीन सालों में दो फैमिली ट्रिप के लिए बारह हज़ार डॉलर और कुल चालीस लाख रुपये मिले थे

……………………………..

रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी की व्हाट्सएप चैट लीक हुई है जिसमें कई सनसनी खेज रहस्योद्घाटन हुए हैं। वो बालाकोट हमले के बारे में जानकारी दे रहे हैं जबकि तबतक बालाकोट हमला हुआ नहीं था। इस मामले को लेकर राहुल गांधी ने जांच की मांग की है और उन्होंने कहा कि आखिर ये गोपनीय बातें एक पत्रकार को किसने बताईं। वहीं पाकिस्तान के मुखिया इमरान खान ने भी इस मामले में कहा कि बालाकोट हमला भारत की ही साजिश थी। सुनियोजित साजिश ताकि इसका चुनावों में उसे लाभ मिल सके। उन्होंने नाम न लेते हुए अर्नब गोस्वामी की चैट की ओर इशारा किया।

…………………..

2007 में अलीगढ़ मुस्लिम विवि के बारे में एक लेख के सिलसिले में टाइम्स ऑफ इंडिया ने माफी मांग ली है। लेख में कहा गया था कि विवि में टाफियों की तरह डिग्रियांबांटी जाती हैं।

………………………………

टीवी पत्रकारिता से यू ट्यूब में उतरे पत्रकार अजीत अंजुम पर कंटेंट चोरी के आरोप लगे हैं। हालांकि इस मामले में उन्होंने चुनौती देते हुए अपना पक्ष अपने अकाउंट पर रखा है और कहा है कि वो अगर गलत साबित हों तो वो पत्रकारिता छोड़ देंगे और अपना यू ट्यूब चैनल बंद कर देंगे।

…………………………………

दैनिक स्वदेश लखनऊ के स्थानीय संपादक बने डॉ अतुल मोहन सिंह

………………………

लोकसभा सचिवालय में विभिन्न पदों के लिए रिक्तियां निकाली गई हैं। जहां मीडिया कर्मी अप्लाई कर सकते हैं। ज्यादा जानकारी के लिए वेबसाईट पर जाएं

http://loksabhadocs.nic.in/JRCell/Module/Notice/Consultants_Advertisement.pdf

…………………

माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विवि भोपाल में पूर्व छात्र प्रकोष्ठ बनाया गया है। जिसका शुभारंभ कुलपति केजी सुरेश ने किया। अब वहां भी पूर्व छात्रों का मिलन समारोह आयोजित किया जाएगा।

……………………………..

मासिक साहित्यिक पत्रिका ‘अभिनव इमरोज़’ (नई दिल्ली) के संपादक देवेन्द्र कुमार बहल को इस वर्ष का पंडित बृजलाल द्विवेदी स्मृति अखिल भारतीय साहित्यिक पत्रकारिता सम्मान दिया जाएगा। 7 फरवरी को ऑनलाइन आयोजित होने वाले एक कार्यक्रम में उन्हें इस पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।
श्री देवेन्द्र कुमार बहल हिंदी प्रेम और अपने गुरु स्वर्गीय डॉ. त्रिलोक तुलसी की प्रेरणा से 70 वर्ष की आयु में संपादन-प्रकाशन की दुनिया में खींचे चले आए। वर्ष 2012 से संकल्पसिद्ध शिक्षार्थी भाव से हिन्दी जगत् को ‘अभिनव इमरोज़’ एवं ‘साहित्य नंदिनी’ जैसे दो महत्वपूर्ण पत्रिकाएं देकर अपनी सेवा भाव का प्रत्यक्ष प्रमाण दे रहे हैं।
……………………………………..
मीडिया कम से कम निशान साहब और खालिस्तानी झंडे में अंतर तो सीख लो । अज्ञानी मूर्खों की तरह रिपोर्ट न करेंः सीमा मुस्तफा, चेयरमेन एडिटर गिल्ड्ज
Share this: