Home > खबरें > एमसीयू के प्रोड्यूसर मनोज पटेल की फिल्म ‘सरकार’ ने जीता पहला पुरस्कार

एमसीयू के प्रोड्यूसर मनोज पटेल की फिल्म ‘सरकार’ ने जीता पहला पुरस्कार

मनोज पटेल की फिल्म सरकार का पोस्टर

स्वतंत्रता के विज्ञान फिल्मोत्सव में एमसीयू के प्रोड्यूसर मनोज पटेल की फिल्म ‘सरकार’ ने जीता पहला पुरस्कार, सहायक प्राध्यापक राहुल खड़िया की फिल्म ‘रामानुजन द मैन हु न्यू इनफिनिटी’ को मिला तृतीय पुरस्कार

भारत सरकार के विज्ञान प्रसार विभाग और फिल्म्स डिवीज़न की ओर से स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव के अंतर्गत आयोजित हुआ फिल्मोत्सव

मनोज पटेल

भोपाल। माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल के प्रोड्यूसर मनोज पटेल की फिल्म ‘सरकार : डॉ. एमएल सरकार’ ने स्वतंत्रता के विज्ञान फिल्मोत्सव में प्रथम पुरस्कार प्राप्त किया है। वहीं, सहायक प्राध्यापक राहुल खड़िया की फिल्म ‘रामानुजन द मैन हु न्यू इनफिनिटी’ को तृतीय पुरस्कार प्राप्त हुआ है। इस फिल्म फेस्टिवल का आयोजन भारत सरकार के विज्ञान प्रसार विभाग एवं फिल्म्स डिवीज़न ने स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव के अवसर पर किया।

राहुल

  प्रोड्यूसर मनोज पटेल की फिल्म ‘सरकार’ आधुनिक विज्ञान में भारत के महान वैज्ञानिक डॉ. महेंद्र लाल सरकार के योगदान को बताती है। उन्होंने एलोपैथी और होमियोपैथी के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य किया। डॉ. सरकार राष्ट्रीय विचारों से ओत-प्रोत थे और ब्रिटिश शासन से भारत को मुक्त देखना चाहते थे। वह चाहते थे कि भारत के नागरिक स्वास्थ्य के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बने। भारतीय नागरिक स्वयं को स्वस्थ रखते हुए ब्रिटिश सरकार से मुकाबला करें। इस फिल्म को आवाज़ दी है एमसीयू की ही पूर्व विद्यार्थी अदिति पौराणिक। जबकि सहायक प्राध्यापक राहुल खड़िया की फिल्म ‘रामानुजन द मैन हु न्यू इनफिनिटी’ एक एक्सपेरिमेंटल साइंस फिल्म है। यह एक डोक्युड्रामा फिल्म है, जिसमें भारत के जिनियस गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन की कहानी और उनकी उपलब्धियों को दिखाया गया है। फिल्म की सह-निदेशक परिधि परमार हैं। फिल्म में अभिनय किया है विआन मोदिया और रॉकी अन्थोनी ने। कुलपति प्रो. केजी सुरेश ने इस उपलब्धि पर प्रसन्नता व्यक्त की है और दोनों को शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने कहा कि फिल्म एक सशक्त माध्यम है, इसका उपयोग समाज में जाग्रति लाने के लिए करना चाहिए। विज्ञान विषय को फिल्म के लिए चुनना अपने आप में एक सराहनीय बात है।

Share this: