Home > खबरें > तालिबानी असरः 257 अफगान मीडिया संस्थान बंद हुए

तालिबानी असरः 257 अफगान मीडिया संस्थान बंद हुए

काबुल, आइएएनएस। अफगानिस्तान पर तालिबान के राज के बाद क्या कुछ हुआ, वह किसी से छुपा नहीं है। और तो और मीडिया पर भी तालिबानियों ने राज कायम कर लिया है। एक एनजीओ के हवाले से एक मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि तालिबान द्वारा अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद से, कुल 257 मीडिया आउटलेट ‘वित्तीय चुनौतियों और प्रतिबंधों के कारण’ बंद किए जा चुके हैं। टोलो न्यूज ने बताया कि एनएआई, समूह जो 2004 से अफगान मीडिया उद्योग की वकालत कर रहा है और उसे समर्थन दे रहा है, ने मंगलवार को कहा कि बंद आउटलेट में प्रिंट, रेडियो और टीवी स्टेशन शामिल हैं।

 एनएआई के अनुसार, 15 अगस्त को काबुल के तालिबान के हाथों में पहुंचने के बाद से 70 प्रतिशत से अधिक अफगान मीडियाकर्मी बेरोजगार हो गए हैं या देश छोड़कर चले गए हैं। रिपोर्टों से यह भी पता चला है कि तालिबान शासन के 100 दिनों के दौरान, अज्ञात सशस्त्र लोगों के हमले, विस्फोट, आत्महत्या और यातायात की घटनाओं सहित विभिन्न घटनाओं में छह पत्रकारों ने अपनी जान गंवाई है।तालिबान के नेतृत्व वाली इस्लामिक अमीरात सरकार के अधिकारियों ने बार-बार कहा है कि वे मीडिया की उपलब्धियों और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं। लेकिन मीडिया संचालन के लिए इस्लामिक अमीरात के हाल में जारी कुछ आदेश ने सबकी चिंता बढ़ाई है।

ह्यूमन राइट्स वाच (एचआरडब्ल्यू) ने सोमवार तालिबान द्वारा अफगानिस्तान में सख्त नए मीडिया दिशानिर्देश लागू करने के बारे में चिंता जताई जो विशेष रूप से महिलाओं को नुकसान पहुंचाते हैं। एचआरडब्ल्यू ने एक बयान में कहा कि तालिबान के खुफिया अधिकारियों ने उन पत्रकारों को जान से मारने की धमकी दी है, जिन्होंने तालिबान अधिकारियों की आलोचना की है और पत्रकारों को प्रकाशन से पहले अनुमोदन के लिए सभी रिपोर्ट जमा करने की आवश्यकता है।

Share this: