Home > खबरें > जामा मस्जिद में जल चढ़ाया तो बहेगा हजारों का खूनः सांसद शफीकुर्ररहमान

जामा मस्जिद में जल चढ़ाया तो बहेगा हजारों का खूनः सांसद शफीकुर्ररहमान

संभल की जामा मस्जिद
  • संभल की जामा मस्जिद मुगलकाल से पहले थी शिवमंदिरः तथ्य
  • अब हिंदू संगठन कर रहे जल चढ़ाने की बात

एजेंसी, लखनऊः

संभल से समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुररहमान अपने एक बयान के चलते विवादों में आ गए हैं। उन्होंने कहा कि शंभल की जामा मस्जिद में अगर किसी ने जल चढ़ाने की कोशिश की तो हजारों का खून बहेगा। दरअसल हिंदू संगठनों का मानना है कि संभल की जामा मस्जिद के अंदर शिव लिंग है। और ऐसी बातें आई थीं कि किसी ने जल चढ़ाने की बात की थी, उससे बाद सांसद ने विवादित बयान दिया।

संभल की जामा मस्जिद का इतिहासः

सम्भल किसी समय में भगवान शिव की नगरी और सनातन एवं वैदिक धर्म के लिए एक पवित्र और प्रसिद्ध तीर्थ हुआ करता था। लेकिन, वर्तमान में यह एक घनी मुस्लिम आबादी वाला क्षेत्र बन चुका है और यहां स्थित एक प्रसिद्ध मस्जिद को आज भले ही जामा मस्जिद के नाम से जाना जाता है, लेकिन पौराणिक और ऐतिहासिक साक्ष्यों के अनुसार वास्वत में वह एक ऐसा मंदिर हुआ करता था जिसका जिक्र और अस्तित्व हमारे पौराणिक ग्रंथों में हरिहर मंदिर के नाम से आज भी मौजूद है।हरिहर मंदिर का दुर्भाग्य था कि अफगान से आये मुस्लिम आक्रांता मोहम्मद गौरी ने एक भयंकर युद्ध में हिन्दू सम्राट पृथ्वीराज चैहान को परास्त करके इस पर कब्जा कर लिया और इसको ध्वस्त करके यहां एक मस्जिद का निर्माण करवा दिया जिसको आज जामा मस्जिद के नाम से जाना जाता है। – अजय चौहान, संभल से 

Share this: