ऑन ड्यूटी कोविड से मौत हुई को लोकमत 10 लाख और भास्कर देगा सालभर की सैलरी

[caption id="attachment_5646" align="alignleft" width="221"] लोकमत समूह की तरफ से मदद के लिए की गई घोषणा का पत्र[/caption] मीडिया मिरर न्यूज, नई दिल्ली। कोरोना के कहर से कोई भी क्षेत्र अछूता नहीं है। लगातार लोग अपनों को खो रहे हैं। ऐसे में विभिन्न क्षेत्रों में काम करने वाले कर्मचारी जान जोखिम में डालकर सेवाएं दे रहे हैं। मीडिया के क्षेत्र की बात करें तो पत्रकार लगातार काम कर रहे हैं और आए दिन पत्रकारों की कोरोना से मौत की खबरें मिल रही हैं। ऐसी स्थिति में मीडिया जगत से दो बड़े समूह सामने आए हैं जिन्होंने कहा है कि वो हर स्थिति में अपने कर्मचारी के साथ खड़े हैं। इसमें दैनिक... Read more

रक्षित सिंह की क्रांति के मायने

एडिटर अटैकः डॉ प्रशांत राजावत, सम्पादक मीडिया मिरर [caption id="attachment_5638" align="alignleft" width="209"] रक्षित सिंह से संबंधित खबर[/caption] रक्षित सिंहः रक्षित एबीपी न्यूज के पत्रकार थे जिन्होंने अभी कुछ सप्ताह पहले ही किसान आंदोलन मेरठ की सभा में मंच पर चढ़कर भाषण देते हुए ये कहकर इस्तीफा दिया कि उनसे किसान आंदोलन की एकपक्षीय रिपोर्टिंग के लिए कहा गया था। किसानों का पक्ष न दिखाने की बात कही गई थी चैनल द्वारा। साथ ही वो कहते हैं कि उनसे कहा गया था कि जल्दी जाओ और दिखाओ कि किसान आंदोलन में कम भीड़ रही। बगैरह बगैरह। उन्होंने बाकायदा किसान सभा के मंच से चैनल की आईडी दिखाते हुए कहा कि नहीं... Read more

लोकसभा टीवी औऱ राज्ससभा टीवी का विलय, मिलकर बना संसद टीवी

[caption id="attachment_5633" align="alignleft" width="300"] अधिसूचना[/caption] मीडिया मिरर न्यूज, दिल्ली। भारतीय संसद के अधीन चलने वाले चैनल लोकसभा टीवी और राज्यसभा टीवी का आपस में विलय हो गया है और इन दोनों चैनलों को मिलाकर अब एक चैनल बनाया गया है जिसका नाम संसद टीवी रखा गया है। दोनों चैनलों के मर्ज करने की चर्चाएं काफी समय से थीं। भूमिका बनाई जा रही थी, चैनलों से लगातार छंटनी जारी थी। कहा ये भी जा रहा था कि राज्यसभा टीवी के पास जहां पर्याप्त संसाधन, स्टाफ, जगह, सुविधाएं हैं तो वहीं लोकसभा टीवी असुविधाओं से जूझ रहा है। संसद की लायब्रेरी के पास एक छोटी सी जगह में इसका संचालन होता रहा... Read more

उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान के पुरस्कारों की घोषणा

लखनऊ।  उत्तर प्रदेश ह‍िंदी संस्थान के 2019के सम्मानों/ पुरस्कारों की घोषणा शुक्रवार को की गई। हिंदी संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. सदानंद प्रसाद गुप्त की अध्यक्षता में हुई बैठक में निर्णय लिया गया। 2019 का पांच लाख रुपये का प्रतिष्ठित भारत भारती सम्मान मुंबई की डॉ. सूर्यबाला को दिया जाएगा। चार लाख रुपये का लोहिया साहित्य सम्मान लखनऊ के दयानंद पांडेय को मिलेगा। चार लाख रुपये का हिंदी गौरव सम्मान दिल्ली के तरुण विजय को दिया जाएगा। चार लाख रुपये का महात्मा गांधी साहित्य सम्मान भोपाल के डा. रामेश्वर प्रसाद मिश्र 'पंकज' को मिलेगा। चार लाख का पं. दीनदयाल उपाध्याय साहित्य सम्मान दिल्ली के डा. सूर्यकांत बाली को दिया जाएगा।... Read more
रवीश कुमार

रक्षित ने इस्तीफ़ा एक चैनल से नहीं गोदी मीडिया के वातावरण से दिया है

रवीश कुमारः एनडीटीवी पत्रकार ABP न्यूज़ चैनल के रक्षित सिंह के इस्तीफ़े को लेकर कल से लगातार सोच रहा हूं। रक्षित मेरठ में हो रही किसान पंचायत को कवर करने गए थे। उसी के मंच पर जाकर उन्होंने अपना इस्तीफ़ा दे दिया। इस्तीफ़े के साथ-साथ कुछ बातें भी कहीं। इस्तीफ़ा देना साधारण बात तो नहीं है। कई बार दफ़्तर में वरिष्ठ किसी के लिए घुटन की परिस्थिति बना देते हैं और कई बार कोई इस्तीफ़े को अलग रंग भी दे देता है किसी ख़ास मौक़े का लाभ उठाने के लिए। किसान आंदोलन में इस्तीफ़ा देकर रक्षित को क्या लाभ होगा? यह आंदोलन सत्ता का तो नहीं है। न ही आंदोलन... Read more

बुलेटिनः न्यूज एंकर के खिलाफ रेप का मामला दर्ज

सोशल मीडिया औऱ ओटीटी प्लेटफार्म पर सरकार ने कसा शिकंजा, जारी की गाइडलाइन। ...... दिल्ली पुलिस ने मुंबई के एक अंग्रेजी चैनल के एंकर के खिलाफ रेप का मामला दर्ज किया है। पीड़ित युवती दिल्ली की है और उसने आऱोप लगाया है कि शादी का झांसा देकर पत्रकार ने रेप किया है। समाचार फॉर मीडिया के अनुसार आरोपी का नाम वरुण हिरेमथ (28) है। 25 फरवरी को दिल्ली के एक फाइव स्टार होटल में किया रेप। दोनों काफी समय से एक दूसरे को जानते थे। ...................... टीवी 18 बिहार में काम कर रही सुकन्या सिंह अब टीवी टुडे नेटवर्क से जुड़ गई हैं। वो नोएडा से बिहार तक के लिए... Read more

न्यूज बुलेटिनः नेहरू पर केंद्रित किताब कौन है भारत माता का लोकार्पण

पर्यावरण कार्य़कर्ता दिशा रवि के मामले में सुनवाई करते हुए दिल्ली की कोर्ट ने कहा है कि इस मामले में कुछ खबरें सनसनीखेज और पूर्वाग्रह से ग्रसित हैं। कुछेक मीडिया संस्थानों को नोटिस भी जारी किए गए हैं। .................... भोपाल से मुद्रित व प्रकाशित शोध पत्रिका समागम अपने 20 वर्ष पूरे कर चुका है। नए अंक का विमोचन हाल ही में विशिष्ट अतिथियों की मौजूदगी में हुए। पत्रिका के सम्पादक वरिष्ठ पत्रकार मनोज कुमार हैं। ............................ इंदौर में भारतीय पत्रकारिता महोत्सव शुरू। राजेंद्र माथुर की बेटी मेहा माथुर की किताब का हुआ लोकार्पण। ...................... मी टू मामले में फंसे पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ पत्रकार एमजे अकबर को एक और... Read more
कलावंती

नया काव्य संग्रहः चालीस पार की औऱत

झारखंड रांची से कलावंती सिंह साहित्य जगत में लम्बे अरसे से सक्रिय हैं, वैसे मूलरूप से उनकी पहचान साहित्य समीक्षक की रही है। विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में वो अक्सर किताबों की समीक्षाएं लिखती रही हैं। लेकिन इसके अलावा वो खुद भी एक अच्छी रचनाकार हैं ये पक्ष खुलकर सामने नहीं आया। कारण वो समय समय पर कविताएं तो लिखती रहीं और उनका लिखा पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित भी होता रहा पर उन्होंने इनका संकलन कर किसी संग्रह के रूप में प्रकाशित नहीं करवाया। लेकिन अब कलावंती जी की कविताओं का संकलन एक किताब में रूप में पाठकों के सामने है। नाम है चालीस पार की औरत। किताब को प्रकाशित किया... Read more

वीकली बुलेटिनः राममंदिर के लिए चंदा देने पर लेखक उदय प्रकाश की हो रही आलोचना

प्रवर्तन निदेशालय ने दिल्ली के साकेत, सैदुल्लाजाब स्थित न्यूज वेबपोर्टल ‘न्यूजक्लिक’ के दफ़्तर पर छापा मारा है। इस पोर्टल के मुख्य संपादक प्रबीर पुरकायस्थ और संपादक प्रांजल के घरों पर भी ED की टीमों ने धावा बोला है। ये भी पता चला है कि एंकर अभिसार शर्मा के स्टूडियो में भी छापेमारी की गई है । ईडी का कहना है कि आशंका है कि पोर्टल को विदेश स्थिति फर्जी कंपनियों के नाम से फंडिंग हो रही है। .............. स्वतंत्र पत्रकार पंकज पुनिया को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया और 2 दिन बाद अदालत से मिली जमानत। पुलिस के कामकाज में बाधा औऱ पुलिस से अभद्रता के मामले में किया गया... Read more
किसान आंदोलन

सेरोटोनिन जब बहता है तो….

(संदर्भः किसान आंदोलन) एडिटर अटैक- डॉ प्रशांत राजावत, सम्पादक, मीडिया मिरर (pratap.prashant@rediffmail.com) किसान आंदोलन। 26 जनवरी को किसान आंदोलन व किसानों की ट्रैक्टर रैली से उपजी अपार हिंसा। 300 से ज्यादा पुलिस वालों का हिंसा की चपेट में आना। कई पुलिस वालों का अति गंभीर अवस्था में अस्पतालों में पहुंचना। दिल्ली सीमाओं का आंदोलन के चलते लगातार बंद रहना। दिल्ली वासियों को आंदोलन के चलते अव्यवस्थाओं का सामना करना। 26 जनवरी की हिंसा को आग देने के लिए झूठ फैलाना देश के प्रबुद्ध पत्रकारों द्वारा और पकड़े जाना। फिर रोना और फिर शक्ति प्रदर्शन करना। ................ हम एक ऐसे समाज का हिस्सा हैं जहां या तो किसान आंदोलन को ही... Read more