विश्व प्रसिद्ध लेखिका तस्लीमा नसरीन

अनायास ही ये लम्हा कैद

delhi:विश्व प्रसिद्ध लेखिका तस्लीमा नसरीन और शब्दांकन के सम्पादक भारत तिवारी। भारत अच्छे फोटोग्राफर भी हैं, उनकी छाया चित्र प्रदर्शनी में पहुंची तस्लीमा तो अनायास ही ये लम्हा किसी साथी फोटोग्राफर ने कैद किया। Read more
सुभाष चंद्रा।

आगे (राष्ट्र)पति, पीछे सरकार

delhi: एस्सेल समूह के 90 वर्ष पूरे होने पर आयोजित समारोह में शामिल होने पहुंचे राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और साथ हैं एस्सेल समूह यानि ज़ी टीवी समूह के मुखिया व राज्यसभा सांसद सुभाष चंद्रा। समारोह दिल्ली में था। मीडिया प्रबंधक कितने सशक्त हैं ये तस्वीर उदाहरण है। रजत शर्मा ने भी इंडिया टीवी के स्थापना दिवस पर राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को बुलाया था। Read more

जितने बढ़िया एंकर, उतने ही बेहतरीन इंसान सईद अंसारी

साथी की ख़ूबी (ये मीडिया मिरर का नया कालम है, जिसमे आप भी अपने साथी की ख़ूबी की चर्चा कर सकते हैं) आजतक के प्रोड्यूसर विकास मिश्रा बता रहे अपने साथी की ख़ूबी। पढ़िये सईद अंसारी...नाम तो सुना होगा..। जितने बढ़िया एंकर, उतने ही बेहतरीन इंसान भी। हमेशा हंसते हुए और गर्मजोशी के साथ मिलते हैं। हर किसी की मदद के लिए तैयार, पक्के यारबाज। मुझे नहीं लगता कि दुनिया में कोई ऐसा भी इंसान होगा, जिसने कभी ये शिकायत की हो कि सईद अंसारी ने मुझसे कोई गलत बात की, तल्ख आवाज में बात की। जमीन से बिल्कुल जुड़े हुए, बिल्कुल इगोलेस, कमाल के इंसान। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में अगर... Read more
श्वेता सिंह

शो को लेकर हद तक जुनूनी हैं एंकर श्वेता सिंह

साथीकी ख़ूबी आजतक की एंकर श्वेता सिंह के बारे में आजतक के प्रोड्यूसर विकास मिश्र बता रहे हैं। श्वेता सिंह को आपने टीवी के परदे पर देखा होगा, लेकिन परदे के पीछे श्वेता कितनी मेहनतकश हैं, अपने शो को लेकर वो किस हद तक जुनूनी हैं, शायद ये बात बहुत लोगों को पता नहीं है। श्वेता उन गिने चुने एंकर्स में से एक हैं, जो अपना प्रोग्राम खुद बनाती हैं, खुद गहन रिसर्च करती हैं, खुद स्क्रिप्ट लिखती हैं, खुद शूट करती हैं। गंगा पर उऩ्होंने गंगोत्री से लेकर गंगासागर तक शानदार सीरीज तैयार की थी। वंदे मातरम् के दो सीजनकी पूरी सीरीज उन्होंने बनाई थी। अद्भुत, अविश्वसनीय और अकल्पनीय... Read more
द वायर के सम्पादक सिद्धार्थ वरदराजन

सिद्धार्थ वरदराजन भाग्यशाली थे कि उनका साबका पहले मिली-जुली हिंदी से पड़ा: ओम थानवी

साथी की ख़ूबी ओम थानवी बता रहे द वायर के सम्पादक सिद्धार्थ वरदराजन की बातें 'वायर' और 'इंडियन एक्सप्रेस' में जितनी साहसपूर्ण सामग्री छपती है, मीडिया में अन्यत्र कम मिलेगी। 'वायर' अब हिंदी में भी शुरू हो गया है और बहुत थोड़े वक्फ़े में उसके लेख-टिप्पणियाँ चर्चा में आने लगे। विनोद दुआ का 'जन की बात' एक पहचान बन गया है। बताऊँ कि 'वायर' एक और ख़ास बात मुझे क्या अनुभव होती है: हिंदी की अहमियत को समझना। इसकी एक वजह शायद यह हो कि उसके संस्थापक-सम्पादक सिद्धार्थ वरदराजन अच्छी हिंदी जानते हैं। यों हिंदी की उनकी बुनियाद पड़ी शायद उर्दू के सहारे। (बोलचाल की उर्दू, हम जानते हैं, कमोबेश... Read more

दुख का उत्सव मनाने वाली कोई स्त्री ही मेरी नायिका हो सकती है….वो हैं विभा रानी: गीता श्री

साथी की ख़ूबी वरिष्ठ कथाकार गीता श्री बता रहीं अपनी साथी विभा रानी के बारे में। विभा लेखिका और कलाकार हैं। मुम्बई रहती हैं। समरथ नाम से एक किताब लिखी है। आज विभा जी का जन्मदिन है। विभा रानी के बारे में गोनू झा के क़िस्से याद आते तो उनकी किताब पलट लेती. वो मेरे लिए मिथिला अस्मिताकी परिचायक थीं. हिंदी में कविताएँ , कहानियाँ यदाकदा पढ लेती थी और उनकी आँचलिक ख़ुशबू पर हैरां होती कि महानगर में रहते हुए इस ख़ुशबू को कैसे बचा पाईं होगी? कितने नादां थे हम कि हम जान न पाए, यह तो पूरी नौरंगी नटनी हैं हमारी छम्मक छल्लो. पूरा लोक ओढ़े जीती हैं.... Read more
सुप्रीत

सुप्रीत फाइटर है, वो लड़ेगी भी और जीतेगी भी: आदित्य

साथीकी ख़ूबी सुप्रीत फाइटर है, वो लड़ेगी भी और जीतेगी भी: आदित्य सुप्रीत कौर, वो पत्रकार जो अपने जज़्बे और अदम्य साहस के बलबूते देश व विदेश में चर्चा में हैं। विश्वभर के पत्रकारों की संवेदना उनके साथ है। महज़ 2 रोज पहले ही सुप्रीत के पति का निधन हो गया और उनको लाइव बुलेटिन में अपने पति के मौत की खबर पढ़नी पड़ी। कितना धैर्य और साहस का परिचय दिया होगा सुप्रीत ने। सुप्रीत रायपुर छत्तीसगढ़ में एक निजी चैनल में एंकर हैं। मीडिया मिरर ने सुप्रीत के खास मित्र और शुभचिंतक डीडी न्यूज़ भोपाल के एंकर आदित्य श्रीवास्तव से बात की और आग्रह किया की वो सुप्रीत के... Read more
यतीन्द्र मिश्र

और इस लड़के ने वे सभी गीत साध लिए थे: मालिनी अवस्थी

साथीकी ख़ूबी लोक गायिका मालिनी अवस्थी बता रहीं यतीन्द्र मिश्र के बारे में, यतीन्द्र की किताब लता सुर गाथा को सिनेमा की बेहतर किताब होने का पुरस्कार देने की घोषणा हाल में हुई हैं। यतीन्द्र अयोध्या में रहते हैं। मालिनी अवस्थी की नज़र में यतीन्द्र मिश्र:- बीस वर्ष पूर्व एक उत्साही तरुण से अयोध्या में भेंट हुई, मोहित, जिसे अब दुनिया यतीन्द्र मिश्र के नाम से जानती है। सामान्य परिचय समान रुचियों के कारण शीघ्र ही घनिष्ठता मे बदल गया। उम्र से कहीं अधिक परिपक्व अध्ययन-रत उस तरुण की साहित्य, संगीत कीगहरी पकड़ उसके उज्ज्वल भविष्य का संकेत देती थी। पारिवारिक संबंध सा बन गया, मुझे बहुत आदर के साथ... Read more
तस्वीर में काटजू और साईनाथ।

काटजू ने आज साईनाथ की तारीफ़ की तो वही लगे हाथ उनकी किताब पढ़ने की अनुशंसा कर डाली

प्रेस कॉउंसिल ऑफ़ इंडिया के पूर्व प्रमुख मार्कंडेय काटजू बता रहे दिग्गज पत्रकार पी साईनाथ के बारे में -: पी साईनाथ द हिन्दू में ग्रामीण मामलों के सम्पादक हैं। निसंदेह आईएएस के तैयारी कर रहे लाखों करोड़ों छात्रों के अप्रत्यक्ष गुरू भी, क्योंकि ये छात्र पी साईनाथ के दीवाने हैं। आमतौर पर आलोचनाओं के लिए प्रसिद्ध काटजू ने आज साईनाथ की तारीफ़ की तो वही लगे हाथ उनकी किताब पढ़ने की अनुशंसा कर डाली। क्या बोले काटजू उन्ही के शब्दों में:- Honoured to meet the greatest journalist of India, P. Sainath, at the Stanford University, CA. In a profession in which most journalists are shamelessly sold out to corporates, and... Read more
अर्णब गोस्वामी

इतिहास रच दिया अर्णब ने: अजीत अंजुम

जब परस्पर विरोधी चैनल का पत्रकार तारीफ़ करे तो कुछ तो बात है। अर्णब गोस्वामी के बारे में इंडिया टीवी के सम्पादक अजीत अंजुम की बेबाक़ टिप्पणी:- You may love him or hate him, but you can't ignore him.....यही अर्णब है ...पहले ही हफ्ते की रेटिंग में सबको रौंद कर रख दिया ...सभी अंग्रेजी चैनल एक तरफ , रिपब्लिक एक तरफ ...चार चैनलों की रेटिंग को जोड़ दें तो भी अर्णब का चैनल आगे है.... 52 फीसदी चैनल शेयर के साथ लांचिंग के पहले ही सप्ताह में रिकार्डतोड़ रेटिंग के साथ नंबर वन होने का इतिहास रच दिया अर्णब ने ... जितनी गालियां उसके हिस्से है, उतनी ही तालियां .... Read more