भारतीय पत्रकारिता का इतिहास

पंजाब केसरी

मैंने ‘पंजाब केसरी’ क्यों और कैसे शुरू की

पंजाब केसरी के संस्थापक लाला जगत नारायण का ये ऐतिहासिक आलेख आप पढ़िए। जिसमें वो पंजाब केसरी की यात्रा और शुरूआत के बारे में बता रहे हैं। अभी  2 दिन पहले ही पंजाब केसरी की वर्षगांठ थी।   दैनिक पंजाब केसरी का प्रवेशांक पाठकों के सामने है। मुझे इस अंक को पाठकों के समक्ष प्रस्तुत करने में जितना हर्ष हो रहा है, उसका अनुमान संभवत: पाठक नहीं लगा सकते। आज मेरी आंखों के सामने लाहौर सैंट्रल जेल का सम्पूर्ण चित्र घूम गया है, जब मैंने लाला लाजपत राय जी के चरणों में बैठकर यह प्रतिज्ञा की थी कि मैं अपना जीवन उस दिन सफल समझूंगा जब हिन्दी में आदरणीय लाला... Read more