यात्रा

खूबसूरत दुबई

दुबई से हम क्या सीखें बता रहे वेदप्रताप वैदिक

प्रसिद्ध पत्रकार डॉ वेदप्रताप वैदिक की कलम सेः- मैं पिछले तीन दिन से दुबई में हूं। जिस कारण से मैं यहां आया, उसके बारे में बाद में बात करेंगे लेकिन फिलहाल मैं कहना यह चाहता हूं कि जो यह देश है, संयुक्त अरब अमारात, इससे हम बहुत कुछ सीख सकते हैं। यह ठीक है कि भारत के मुकाबले यह बहुत छोटा है। भारत इससे सवा सौ गुना बड़ा है। इसकी जनसंख्या मुश्किल से एक करोड़ है और यह सात राज्यों का संयुक्त संघ है। लेकिन इसकी खूबी यह है कि दुनिया की लगभग 200 राष्ट्रीयताओं के लोग यहां रहते हैं याने दुनिया के हर देश का आदमी आपको यहां मिल... Read more
त्रिनिडाड में मालिनी अवस्थी।

मालिनी अवस्थी की नजर से देखिए त्रिनिडाड को

लोकगायिका मालिनी अवस्थी हाल ही में त्रिनिडाड से लौटी हैं। तीन संक्षिप्त हिस्सों में उन्होंने त्रिनिडाड का जिक्र किया है। उन्ही की कलम से   १) हज़ारों मील की दूरी, विदेशी भूमि, विदेशी भाषा, खान-पान, पहनावा, विश्वास, संस्कृति भी उनकी भारतीयता को मिटा न सकी। वे श्रमिक बन कर यहां पहुँचे थे, उन्होंने त्रिनिडाड में पहले से बसे अफ्रीकन नागरिकों के विरोध को सहा, शासको के अत्याचार को सहा, लेकिन अपनी सनातन संस्कृति को न छोड़ा।  दत्तात्रेय सनातन धर्म मंदिर में पच्चासी फीट ऊंची हनुमान जी की मूर्ति को देख जब मैंने अपना शीश झुकाया तो मंदिर के मुख्य पुजारी बोले, हम अब अपने पुर्वजों की भाषा नही जानते लेकिन... Read more

श्रीलंका में सीता मंदिर की कहानी

दैनिक भास्कर के सहायक सम्पादक दीपावली कवरेज के लिए श्रीलंका हाल ही में गए थे। उनकी कलम से यात्रा संस्मरण।   पांच साल तक लगातार भारत घूमने के बाद 2015 की शुरुआत में स्थिर हुआ। ढाई साल बाद अचानक दीपावली कवरेज के लिए  श्रीलंका जाने का योग बना। कारण था दीपावली पर वहां से सीता मंदिर की एक जगमगाती तस्वीर और कहानी। इस सफर में पहले फोटो एडिटर ओपी सोनी साथ जाने वाले थे लेकिन पासपोर्ट नहीं होने से वे पिछड़ गए और उदयपुर के ताराचंद गवारिया भारी बहुमत से नेता चुने गए। वे पासपोर्ट सहित दिल्ली में ही मौजूद थे। दिल्ली से सवा तीन घंटे की उड़ान से शाम सात... Read more
अनुराधा बेनीवाल एथेंस में

यात्रा संस्मरणः इस शहर में एक बेचैनी है, ख़ाली सड़कों पर अकेले चलते हुए भी शांति नहीं है

अनुराधा बेनीवाल मूलतः हरियाणा रोहतक की हैं, लंदन रहती हैं। लंदन में चेस की कोच हैं। हाल ही चर्चित किताब आजादी मेरा ब्रांड की लेखिका हैं। विश्व भ्रमण करती रहती हैं। उनकी किताब भी घुमक्कड़ी पर ही थी। आजकल एथैंस और इंस्तानबुल की यात्रा पर हैं। घूमती हैं साथ साथ लिखती भी जाती हैं। एथेंस के बारे में पढ़िए उनकी कलम से।   इस शहर में एक बेचैनी है। ख़ाली सड़कों पर अकेले चलते हुए भी शांति नहीं है। आवाज़ें हैं, बहुत सारे संवाद हैं, बहुत सारे लोग बहुत कुछ कह रहे हैं। ये भाषा ना समझते हुए भी मुझे लगता है कोई लगातार मुझसे कुछ कहने की कोशिश कर रहा... Read more
gopa sanyal

यात्रा संस्मरण: एशिया का क्लीन सिटी भी मौजूद है मावलीनोंग में

Day-2 Mawlynnong..   यात्रा संस्मरण: डीडी न्यूज़ रायपुर की एंकर गोपा सान्याल पिछले दिनों मेघालय घूमने गयी थीं। बहुत दिलचस्प यात्रा संस्मरण लिखा है मीडिया मिरर के लिए। पहला भाग हम दे चुके हैं। आज दूसरा भाग। मेघालय यात्रा के दूसरे दिन हम मावलीनोंग पहुँचे। मावलीनोंग में देखने के लिए एक से बढ़कर एक स्थल हैं।मेघालय में जगहों के नामो के उच्चारण में खासी दिक्कत आती है,अधिकतर नाम लंबे और मिलते जुलते से होते हैं।मावलीनोंग में देखने के लिए कैन्यन रेंगें वैली व्यू, बैलंसिंग रॉक,स्काई व्यू पॉइंट, रिवाई में लिविंग रूट ब्रिज के अलावा एशिया का क्लीन सिटी भी मौजूद है,हालांकि सिटी के लिहाज से वहाँ ऐसा कुछ नही दिखा,... Read more
नेपाल

यात्रा वृत्तान्त नेपाल: जिस अंदाज से कोई पुरुष आकर व्हिस्की खरीदता उसी अंदाज और मस्ती में लड़कियां भी

नेपाल की राजधानी काठमांडू तो और भी विचित्र। पहले तो भैरहवा दाखिल होते ही हमें चाय की दूकानों पर चाय कम बियर और व्हिस्की ज्यादा बिकती मिलीं और बेचने वाला कोई पुरुष नहीं बल्कि महिलाएं ही होतीं। जिस अंदाज से कोई पुरुष आकर व्हिस्की खरीदता उसी अंदाज और मस्ती में लड़कियां भी। लेकिन क्या मजाल कि कोई छेडख़ानी हो जाए। यह कोई कम आश्चर्य की बात नहीं कि इस छोटे से देश नेपाल के लोग इतने संयमी व अनुशासन के पाबंद हैं कि हमारे फेसबुक मित्र और काठमांडू वासी श्री राजीव मिश्र ने बताया कि पिछले पंद्रह वर्ष से वे काठमांडू में रह रहे हैं पर आज तक किसी रेप... Read more
एंकर चित्रा त्रिपाठी

त्रयम्बकेश्वर मंदिर नासिक, देश के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक: चित्रा त्रिपाठी

एबीपी न्यूज़ दिल्ली की एंकर चित्रा त्रिपाठी अपने पत्रकार पति अतुल अग्रवाल के साथ त्रयम्बकेश्वर मन्दिर घूमने गईं। मन्दिर के बारे में कुछ बता रही हैं। त्र्यंबकेश्‍व मंदिर नासिक, देश के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। इस प्राचीन मंदिर का पुनर्निर्माण तीसरे पेशवा बालाजी अर्थात नाना साहब पेशवा ने करवाया था। इस मंदिर का जीर्णोद्धार 1755 में शुरू हुआ था और 31 साल के लंबे समय के बाद 1786 में जाकर पूरा हुआ। कहा जाता है कि इस भव्य मंदिर के निर्माण में करीब 16 लाख रुपए खर्च किए गए थे, जो उस समय काफी बड़ी रकम मानी जाती थी।त्र्यंबकेश्‍वरज्योर्तिलिंग में ब्रह्मा, विष्‍णु और महेश तीनों ही विराजित हैं... Read more

यात्रा संस्मरण-उत्तर पूर्वी राज्य मेघालय चेरापूँजी

1- साल भर की एकरसता से हटने के लिए इस बार हमने मेघालय और असम राज्य को भ्रमण के लिए चुना।संयोगवश आषाढ़ के पहले दिन ही हमारी यात्रा शुरू हुई।इस बीच हमारे प्रदेश  छत्तीसगढ़ में मान [caption id="attachment_1443" align="alignleft" width="346"] डीडी रायपुर की समाचार वक्ता गोपा बनर्जी[/caption] सून ने दस्तक दे दी थी ,पर गर्मी जो कम होने का नाम ही नही ले रही थी।ऐसे में विचार आया कि किसी पर्वतीय स्थल में सैर को  चलें। वैसे तो कोलकाता से शिलोंग सीधी हवाई यात्रा अधिक सुविधाजनक थी पर व्यक्तिगत कारणों से हमें दिल्ली रुकना पड़ा फिर वहाँ से गुवाहाटी के लिए  हवाई टिकट कराया और  गुवाहाटी से सड़क मार्ग के... Read more
मुंबई का महापौर निवास

मेयर का यह आलीशान बंगला अब स्वर्गीय बाला साहेब ठाकरे का स्मारक बनने जा रहा है

पंजाब केसरी के राजनीतिक सम्पादक रामकिशोर त्रिवेदी मुम्बई के महापौर निवास के बारे में कुछ बता रहे, जब वहां घूमने पहुंचे। मुंबई का महापौर निवास तो कई बार गया पर वहाँ पत्नी व पारिवारिक मित्रों के साथ जाना अविस्मरणीय रहेगा । अरबसागर की उत्तुंग लहरों को निहारते हुए मेयर के ओ एस डी अनुज अनिल त्रिवेदी ने परम्परागत बड़ापाव व कटलेट का नाश्ता कराकर सबको तृप्त कर दिया। मेयर का यह आलीशान बंगला अब स्वर्गीय बाला साहेब ठाकरे का स्मारक बनने जा रहा है। शिवाजी पार्क करीब स्थित मेयर निवास में शिवसेना प्रमुख बालासाहेब ठाकरे कई बार आए। उनके कई बैठकों का यह मेयर निवास स्थान गवाह रहा है। इसी... Read more
सिंगापुर का फ्लायर

सिंगापुर डायरी: सिंगापुर का फ्लायर

सिंगापुर डायरी: भाग-4 लखनऊ 4pm के सम्पादक संजय शर्मा की कलम से, जो परिवार समेत सिंगापुर यात्रा पर हैं। एयरपोर्ट से सिंगापुर जाते समय आपको सुंदर सड़कें, हरे-भरे पार्क के अलावा जो चीज सबसे ज्यादा आकर्षित करेगी वो समुद्र के किनारे लगा बेहद ऊंचा झूला है। बच्चे इसे देखकर उत्साह से लबरेज हो जाएंगे क्योंकि यह झूला इतना ऊंचा है कि सिंगापुर के अधिकांश स्थानों से इसे देखा जा सकता है। इसे सिंगापुर का फ्लायर कहते हैं। यह दुनिया के सबसे ऊंचे झूलों में से एक है। दूर से देखने में ऐसा लगता है कि यह चल नहीं रहा, मगर यह हकीकत नहीं है। इसकी गति इतनी धीमी है कि... Read more