खबरें

बीबीसी

लाइव टीवी शो के दौरान सपा-बीजेपी प्रवक्ता में मारपीट

नई दिल्ली: लाइव टीवी डिबेट शो के दौरान समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के प्रवक्ता और बीजेपी (BJP) प्रवक्ता आपस में भिड़ गए. नोएडा के सेक्टर 16-A में एक टीवी चैनल जी न्यूज के लाइव शो के दौरान उस समय अफरातफरी मच गई जब सपा प्रवक्ता अनुराग भदौरिया (Anurag Bhadoria) ने भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव भाटिया (Gaurav Bhatia) को धक्का दे दिया. बाद में भदौरिया को पुलिस ने हिरासत में ले लिया.  घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. एसएसपी अजय पाल शर्मा ने बताया नोएडा के सेक्टर 16-A स्थित एक टीवी चैनल में लाइव डिबेट शो के दौरान आपस में भिड़ गए. उन्होंने बताया कि गौरव भाटिया... Read more
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

मोदी ने साढ़े चाल में पीसी क्यों नहीं की, नहीं बता पाए शाह

नई दिल्ली, एजेंसी प्रधानमंत्री ने साढ़े चार साल में एक भी प्रेसवार्ता नहीं की, क्यों? इस सवाल पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह जब सीधा जवाब देने के बजाय टाल-मटोल करने लगे तो कांग्रेस ने शुक्रवार को फिर सवाल किया, "क्या मोदी और शाह खुद को जवाबदेही से ऊपर मानते हैं?" कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के उठाए इस सवाल पर कि मोदी ने अब तक एक भी प्रेसवार्ता क्यों नहीं की, भाजपा अध्यक्ष ने पहले तो इस सवाल को टालने की कोशिश की, उसके बाद कहा कि भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा इसका जवाब देंगे. यह वाकया भाजपा मुख्यालय में हुई प्रेसवार्ता का है. जब पत्रकार ने इस बारे में जोर... Read more
बगड़ स्थित पीरामल दरवाज़ा.

ईशा अम्बानी की ससुराल बगड़ की मीडिया को खबर नहीं

भारतीय पत्रकारिता का पतन तो 1990 के आसपास तभी हो गया था जब टाइम्स ऑफ इंडिया के मालिक समीर जैन ने कहा था कि अख़बार एक उत्पाद है और उनके लिये अख़बार और साबुन की बट्टी में कोई फ़र्क़ नहीं है । पिछले तीस सालों में जो साबुन की बट्टी थी वह भी घिस गई, अब तो सिर्फ़ झाग ही झाग रह गये हैं । आज पत्रकारिता पूरी तरह पूंजीपतियों, राजनेताओं, क्रिकेटरों, अभिनेताओं और धर्मगुरुओं की दास है । पत्रकारिता के पतन पर फिर कभी लिखेंगे । अभी तो भारतीय समाचार-पत्र एक बॉलीवुड अदाकारा की शादी से रंगे हुये हैं और आज के समाचार-पत्र भारत के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश... Read more
जागरण संवादी

राष्ट्रभक्ति के मुद्दे से घबराने की जरूरत नहींः हितेश शंकर

दैनिक जागरण संवादी 2018 लखनऊ में तीन दिवसीय आयोजन था जिसमें साहित्य, कला, रंगमंच, सिनेमा और संस्कृति जैसे तमाम  क्षेत्रों से जुड़े लेखक, विचारक चिंतक, साहित्यकार,कलाकार जैसे मुजफ्फर अली, सोनल मानसिंह, विलायक जाफरी,शैलेंद्र सागर, शाजिया इल्मी ,किश्वर देसाई ,यतींद्र मिश्रा ,अली फजल ,आशीष विद्यार्थी आदि ने भाग लिया । यह मीडिया जगत की एक महती जिम्मेदारी बनती है कि वह अपने सामाजिक सरोकार निभाए l इसी दिशा में एक उदाहरण प्रस्तुत करता है जागरण संवादी। लखनऊ की गुनगुनी  धूप में 30 नवंबर से 1 और 2 दिसंबर तक चलने वाले तीन दिवसीय कार्यक्रम में लगभग 27 सत्र हुए. जिसमें संस्कार-संस्कृति से लेकर राजनैतिक मुद्दों जैसे 'हम लड़ते क्यों हैं, नए... Read more
पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के साथ रमेश ठाकुर।

पत्रकार रमेश ठाकुर बने एनआईपीसीसीडी के सदस्य

 राष्ट्रीय जन सहयोग एवं बाल विकास संस्थान (एनआईपीसीसीडी) महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के अधीन है मीडिया मिरर न्यूज, दिल्ली।   पीलीभीत जिले से ताल्लुक रखने वाले पत्रकार और स्वतंत्र टिप्पणीकार रमेश ठाकुर को राष्ट्रीय जन सहयोग एवं बाल विकास संस्थान (एनआईपीसीसीडी) ने अपनी कार्यकारी समिति के सदस्य के तौर पर नामित किया है। इस आशय की जानकारी संस्थान के निदेशक एमए इमाम ने एक प्रेस बयान जारी कर दी है। उन्होंने बताया कि यह संस्थान भारत सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के अधीन है। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। इसके अलावा बेंगलुरु, गोहाटी, लखनऊ, इंदौर और मोहाली में इसके पांच क्षेत्रीय केंद्र हैं। कार्यकारी समिति... Read more
रवीश कुमार

रवीश कुमार बोले मुझे कार्यक्रमों में न बुलाएं

कृपया मुझे लिट फेस्ट और अन्य फेस्ट में बुलाने से परहेज़ करें रवीश कुमार- कार्यकारी सम्पादक एनडीटीवी मैं हर साल लिखता हूँ कि मुझे न बुलाया जाए। इसके बाद भी मेरे ये लेख बुलाने वालों तक क्यों नहीं पहुँच पाते हैं। पाँच दिनों तक सघन काम करने के बाद दो दिन अपने शरीर और परिवार के लिए ज़रूरी होते हैं। मैं समझता हूँ कि बुलाने और बोलवाने के इस उत्सव में कुछ ऐसे लोग भी शामिल होते हैं जो वाक़ई अच्छा काम करते हैं, पर उन्हें भी समझना चाहिए कि कोई कितना वक़्त दे सकता है। यह उचित भी नहीं है। कहीं जाने की तैयारी में कई दिन पढ़ने और लिखने... Read more
चीनी फोटोग्राफर

पुरस्कार विजेता चीनी पत्रकार लू गुआंग अपने ही देश में लापता

बीजिंग, रायटर।  तीन बार व‌र्ल्ड प्रेस फोटो पुरस्कार जीतने वाले चीनी फोटो पत्रकार लू गुआंग को स्वदेश लौटने पर सुरक्षा एजेंटों ने हिरासत में ले लिया है। वह इस महीने के शुरू में चीन के पश्चिमी प्रांत शिनजियांग गए थे। इसके बाद से ही वह लापता बताए जा रहे थे। गुआंग अपनी पत्नी के साथ अमेरिका में रहते हैं। अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में रहने वाले गुआंग की पत्नी शू शिओली ने एक ऑनलाइन पोस्ट में कहा कि गुआंग को हिरासत में लिए जाने की खबर मिली है। उन्हें शिनजियांग की राजधानी उरुमची में फोटोग्राफी कार्यक्रमों में हिस्सा लेने के लिए आमंत्रित किया गया था। शिओली का गुआंग से तीन... Read more
नंदिनी सुंदर

पत्रकार सिद्धार्थ वरदराजन की पत्नी को जागरण ने लिखा माओवादी

मीडिया मिरर न्यूज, दिल्ली। जाने माने अंग्रेजी पत्रकार, हिंदू के पूर्व सम्पादक और अब द वायर न्यूज पोर्टल के संस्थापक औऱ सम्पादक सिद्धार्थ वरदराजन की पत्नी व दिल्ली विश्वविद्यालय की प्रोफेसर नंदिनी सुंदर को दैनिक जागरण समूह के अखबार नईदुनिया ने अपनी खबर में माओवादी कार्यकत्ता बताया है। जिसका द वायर ने सख्त विरोध जताया है।    पढ़िए द वायर पर लिखी पूरी रिपोर्टः जागरण समूह के अख़बार नई दुनिया के रायपुर संस्करण में सामाजिक कार्यकर्ता और दिल्ली विश्वविद्यालय की प्रोफेसर नंदिनी सुंदर को लेकर प्रकाशित एक खबर में उन्हें ‘माओवादी कार्यकर्ता’ कहा गया है. यह खबर प्रोफेसर सुंदर द्वारा छत्तीसगढ़ में उनके खिलाफ दायर हत्या और आपराधिक साज़िश के एक मामले से उनका नाम हटाने... Read more
media mirror

PTI से निकाले गए कर्मियों की HC ने बचाई नौकरी

नई दिल्ली: दिल्ली हाईकोर्ट ने न्यूज एजेंसी पीटीआई से 297 कर्मचारियों को निकाले जाने के फैसले पर रोक लगा दी है. जस्टिस सी हरिशंकर ने फेडरेशन ऑफ पीटीआई एम्पलॉइज यूनियन की याचिका पर सुनवाई करते हुए ये आदेश दिया. फेडरेशन ऑफ पीटीआई एम्पलॉइज यूनियन ने अपनी याचिका में कहा था कि पीटीआई के प्रबंधन ने कर्मचारियों को निकालने के लिए नियमों का पालन नहीं किया. पीटीआई ने पिछले 29 सितंबर को देशभर के 297 कर्मचारियों को एक ही दिन में निकाल दिया था. पीटीआई ने अपने वेबसाइट पर निकाले गए उन 297 कर्मचारियों को निकाले जाने की जानकारी दी थी. पीटीआई प्रबंधन के इस फैसले का पीटीआई के कर्मचारियों ने... Read more
आप

आप के पूर्व नेता आशुतोष की पत्रकारिता में वापसी

मीडिया मिरर न्यूज, दिल्ली।  आम आदमी पार्टी के नेता रहे आशुतोष ने एक बार फिर घर वापसी की है। आशुतोष ने अपने कुछ पत्रकार साथियों के साथ मिलकर सत्यहिंदी नाम से पोर्टल लांच किया है। उल्लेखनीय है कि आशुतोष प्रसिद्ध टीवी पत्रकार रहे हैं। आईबीएन 7 में उनका शो हाट शीट काफी लोकप्रिय था। पर अऱविंद केजरीवाल की पार्टी और राजनीतिक लालच के चलते वो पत्रकारिता छोड़ नेता बन गए। हालांकि राज्यसभा में जब उन्हें नहीं बैठाया गया तो उन्होंने पार्टी से खुद को अलग कर लिया। वैसे आप के अंदरूनी सूत्र बताते हैं कि आशुतोष से पार्टी को किसी भी तरह का कोई फायदा नहीं था। न तो आशुतोष... Read more