खबरें

सुप्रिया श्रीनेत

ईटी नाउ की सम्पादक सुप्रिया श्रीनेत चुनाव लड़ेंगी

नई दिल्ली। टाइम्स नेटवर्क के बिजनेस न्यूज चैनल ‘ईटी नाउ’ (ET NOW) की एग्जिक्यूटिव एडिटर सुप्रिया श्रीनेत ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। इस बात की जानकारी सुप्रिया ने खुद अपने ट्विटर हैंडल पर दी है। वह टाइम्स ग्रुप से करीब दस साल से जुड़ी हुई थीं  अब वे अपनी नई पारी राजनीति से शुरू करने जा रही हैं और कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव में उन्हें महराजगंज से अपना उम्मीदवार भी घोषित कर दिया है।  सुप्रिया श्रीनेत का महराजगंज से पुराना रिश्ता है। वह महराजगंज के पूर्व सांसद हर्षवर्धन की बेटी हैं। Read more
मीडिया की बातें

कांग्रेस के घोषणापत्र में मीडिया हित की बात पढ़िए

कांग्रेस ने अपना घोषणा-पत्र जारी कर दिया है। घोषणा पत्र में तमाम वादे हैं। तमाम वादों के साथ मीडिया के लिए भी कुछ बातें कही गई हैं। मीडिया के बारे में जो है। वो आप तस्वीर में जाकर पढ़ लीजिए। Read more
नमो टीवी के बारे में

नमो टीवी, मोदी फिल्म… सब ठीक है?

Namo Tv,Modi Film… सब ठीक है… सब चल रहा है....चुनाव आयोग हाइजैक हो चुका है! Namo Tv धड़ल्ले से चल रहा है। जिसपर सिर्फ मोदीजी ही दिखते रहते हैं। यह चैनल एक ही डीटीएच पर दो-दो जगह दिखाई देता है। टाटा स्काई में नमो टीवी इंटरटेनमेंट कैटगरी के चैनलों के बीच में दिखता है। साथ ही न्यूज़ कैटगरी वाले न्यूज़ चैनल्स के बीच भी आता है। नमो टीवी को लेकर भाजपा की तरफ से जारी एक पत्र की कॉपी भी साथ में भेजा है। यह पत्र सच है तो बेहद शर्मनाक है। नमो टीवी, मोदी पर फिल्म... सब कुछ बीच चुनाव धड़ल्ले से कैसे चलने दे रहा है चुनाव आयोग... Read more
चिराग पटेल

पत्रकार चिराग पटेल की मौत हादसा नहीं साज़िश

अहमदाबादः  टीवी पत्रकार चिराग पटेल मामले में एक नया मोड़ आ गया है। चिराग पटेल की मौत कोई हादसा नहीं बल्कि क़त्ल है, ये खुलासा पोस्टमॉर्टेम रिपोर्ट आने के बाद हुआ है। तीन दिन पहले 26 वर्षीया पत्रकार चिराग का शव अहमदाबाद के कठवाड़ा नहर के पास जले हुए हालत में मिली थी। चिराग के परिवार वालों ने 15 मार्च को उनकी मिसिंग रिपोर्ट लिखवाई थी। मामले की तफ्तीश कर रही अहमदाबाद पुलिस ने टेलिविजन पत्रकार चिराग पटेल की मौत के मामले में पुलिस ने एफआईआर में अब हत्या की धाराएं भी शामिल कर ली हैं। चिराग पटेल ‘TV9’ के गुजराती चैनल में कॉपी एडिटर के पद पर कार्यरत थे।... Read more
वरिष्ठ टीवी पत्रकार पुण्य प्रसून वाजपेयी।

पुण्य प्रसून वाजपेयी को समझिए, कुछ कह रहे हैं

अगर काबीलियत की बात है तो  पुण्य प्रसून वाजपेयी भारत के उन चुनिंदा टीवी पत्रकारों में से एक हैं या कहें एक ही हैं जिन्हें किसी से सर्टिफिकेट की आवश्यक्ता नहीं। बावजूद प्रसून को टीवी चैनल लगातार नौकरी से बाहर निकाल रहे हैं। ये बात गौरतलब है। भारत में टीवी पत्रकारिता का इतिहास जब लिखा जाएगा तो ये बात जरूर सामने आएगी कि भारत के समकालीन श्रेष्ठ पत्रकारों में से एक पुण्य प्रसून वाजपेयी को 4 महीने में तीसरे चैनल ने बाहर का रास्ता दिखाया औऱ उन्हें नौकरी के लाले पड़ गए। जैसा आप सब जानते हैं कि हाल ही में पुण्य प्रसून ने अपने कद के हिसाब से बेहद... Read more
यादों में आलोक

ये रवीश कुमार के बहिष्कार का वक्त है..

प्रशांत राजावत की रिपोर्ट- कल दिल्ली में पत्रकार आलोक तोमर की याद में प्रतिवर्ष की तरह इस बार भी यादों में आलोक कार्यक्रम आय़ोजित किया गया था। वक्ताओं में टीवी पत्रकार रवीश कुमार, साहित्यकार अशोक वाजपेयी, कुर्बान अली, जगदीश उपासने थे। हालांकि जगदीश उपासने आए नहीं। क्यों नहीं आए ये अलग विषय है। मंच का संचालन कर रहे थे आईटीएम विश्वविद्यालय ग्वालियर के कुलपति रमाशंकर सिंह। मैं यहां पर संक्षेप में बता दूं कि किसने क्या बोला औऱ उसके बाद शीर्षक से संबंधित बात करेंगे। कार्य़क्रम का विषय था। क्या ये हिंदी पत्रकारिता का दब्बू युग है। जब मैं पहुंचा अशोक वाजपेयी खड़े ही हुए थे बोलने के लिए। अशोक... Read more
बीके कुठियाला

माखनलाल पत्रकारिता विवि के पूर्व कुलपति पर हो एफआईआर

तीन सदस्यी जांच समिति ने सीएम को सौंपी रिपोर्ट में अनुशंसा की है कि विश्वविद्यालय भ्रष्टाचार का केंद्र बन गया था। पूर्व कुलपति बीके कुठियाला के खिलाफ एफआईआर की जाए 7 मार्च को सौंपी गई है रिपोर्ट   भोपाल . माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय (एमसीयू) में एक खास विचारधारा से जुड़े लोगों को उपकृत करने के लिए तमाम हथकंडे अपनाए गए। साथ ही अकादमिक कार्यों के नाम पर करोड़ों रुपए का फर्जीवाड़ा भी हुआ। यह तथ्य मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा विवि में हुई गड़बड़ियों की जांच करने के लिए गठित समिति की रिपोर्ट में सामने आए हैं। समिति ने अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंप दी है। अब यह मामला जांच  के... Read more
डॉ मान सिंह परमार

कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति का इस्तीफा

जब मुखिया बदलते हैं तो प्यादे भी बदलते हैं। तीन राज्यों राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में इसका असर सबसे पहले देखने को मिल रहा है। नई सरकारों के बाद ये दूसरा अवसर है जब किसी पत्रकारिता विवि के कुलपति को इस्तीफा देना पड़ा हो नई दिल्ली, एजेंसी।  कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय में चल रहे सियासी घमासान के बीच शनिवार देर रात कुलपति डा. मानसिंह परमार ने इस्तीफा दे दिया। माना जा रहा है कि छत्तीसगढ़ में सरकार बदलने के बाद बने हालात और विश्वविद्यालय परिसर में कई दिन से चल रहे वैचारिक घमासान के कारण उन्होंने अपना इस्तीफा सौंपा है। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को लिखे पत्र में उन्होंने... Read more
तथागत सत्पति

पत्रकारिता के लिए राजनीति से संन्यास लेकर चौंकाया सांसद ने

तथागत सत्पथी (Tathagata Satpathy): जिस दौर में पत्रकारिता को सीढ़ी बनाकर तमाम लोग विधायक-सांसद और मंत्री बनकर सत्ता का सुख लेने की कोशिश करते हैं, जिसके ढेरों उदाहरण भी हैं, उस दौर में इस सांसद ने पत्रकारिता के लिए राजनीति से संन्यास लेकर नजीर पेश की है. तथागत 4 बार बीजद से सांसद रहे हैं और अब पत्रकारिता करना चाहते हैं। आमतौर पर राजनीति से पत्रकारिता में जाना आम बात है और बहुत सफल राजनेता कभी पत्रकार रहे हैं। चाहे अटल जी हों या राजीव शुक्ला आदि कई नाम। पूर्व टीवी पत्रकार आशुतोष आप में गए फिर से सत्यहिंदी डिजिटल माध्यम से वापसी की, लेकिन आशुतोष की वापसी मजबूरी थी... Read more
कोर्ट

अयोध्या मामले की मध्यस्थता की रिपोर्टिंग पर प्रतिबंध रहेगा

नई दिल्ली (हिंदुस्तान की रिपोर्ट)  सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामला शुक्रवार को मध्यस्थता के लिए सौंप दिया। इस मामले में कोर्ट ने रिटायर्ड जस्टिस कलीफुल्ला की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय पैनल का गठन किया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मध्यस्थता फैजाबाद में की जाएगी। पैनल की अध्यक्षता रिटायर्ड जस्टिस एफ.एम. कलीफुल्ला करेंगे और इसमें श्री-श्री रविशंकर और सीनियर एडवोकेट श्रीराम पांचू शामिल होंगे। वहीं, कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि मीडिया में मध्यस्थता की प्रक्रिया की रिपोर्टिंग पर प्रतिबंध रहेगा। पढ़ें, सुप्रीम कोर्ट के अयोध्या मामले को मध्यस्थता के लिए भेजे जाने के फैसले की 10 खास बातें: 1- अयोध्या राम जन्मभूमि मस्जिद विवाद पर मध्यस्थता पर फैसला सुनाते समय चीफ जस्टिस रंजन... Read more