रचनाकर्म

Asima Bhatt

असफल प्रेमिकाएँ

असफल प्रेमिकाएँ Asima Bhatt की कविता वो प्रेतात्माएं नहीं थीं वो प्रेमिकाएँ थीं वो खिलना जानती थीं फूलों की तरह महकना जानती थीं खुशबू की तरह बिखरना जानती थीं हवाओं की तरह बहना जानती थीं झरनो की तरह उनमें भी सात रंग थे इंद्रधनुषी उनमें सात सुर थे उनकी पाज़ेब में थी झंकार . वो थीं धरती पर भेजी हब्बा की पाकीज़ा बेटियां जिन्हें और कुछ नहीं आता था सिवाय प्यार के वो बार बार करती थीं प्यार असफल होती थीं. टूटती थीं बिखरती थीं फिर सम्हलती थीं जैसे कुकनूस पक्षी अपनी ही राख से फिर फिर जी उठता है फिर प्यार करती थीं उसी शिद्दत से, उसी जुनून से... Read more
पवन करण

पवन करण जी ग्वालियर से हैं, उनकी कविता आपके लिए

रचनाकर्म पवन करण जी ग्वालियर से हैं, उनकी कविता आपके लिए। चोटी मैं मन में सोचता इसके लंबे बालों की कितनी कातिल चोटी गुंथती है कमर के नीचे तक गुथी जब यह तुम्हारी पीठ के नीचे दब जाती मुझे बहुत चिढ़न होती जितनी देर तक वह नीचे दबी रहती मैं बेचैन बना रहता सोचता कि पीठ के नीचे उसका दम घुट रहा होगा तुम्हें हमेशा यही लगता कि मैं तुम्हें देख रहा हूं मगर मैं जब तुम इसे बना रही होतीं तब तुम्हें नहीं तुम्हारे हाथों इसे बनते देखता मेरी इस बात पर तुम हंस देतीं जब मैं तुमसे यह कहता कि जब तुम मुझसे दूर जाया करो अपनी चोटी... Read more
नीलम सक्सेना की कविता

नीलम सक्सेना की कविता

नीलम संघ लोक सेवा आयोग में संयुक्त सचिव हैं। हाल ही में उनका कविता संग्रह भी आया है। आशिक़ बार बार मैं अपने दिल के किवाड़, ताले डालकर बंद कर देती हूँ, और फेंक देती हूँ उसकी चाबी, जंगल में ऊँची घास के बीच कि कोई उसे ढूँढ़ ही न पाए; पर तुम हो कि तब तक दस्तक देते रहते हो, जब तक मैं हारकर, किवाड़ ही नहीं उखाड़ देती! यूँ कब तक पीछा करते रहोगे मेरा? क्या थकती नहीं हैं तुम्हारी आँखें, उस बासी सी मेरी सूरत को देखते हुए? क्या चाहते हो मुझसे? और कब तक मुझसे यूँ इश्क़ करते रहोगे? ए जोश! सच कहूँ तो तुमने ही... Read more