young journalsit

मीडिया मिरर

द डायरी ऑफ अ यंग जर्नलिस्ट

   मीडिया पढ़ाई के नाम पर गोरखधंधा प्रशांत राजावत. सम्पादक मीडिया मिरर दरअसल हमलोग निरे देहाती किस्म के लोग थे। शहर आया जाया करते थे पर शहर को समझा-जाना कभी नहीं और यहां के फ़रेबी लोगों से वास्ता नहीं पड़ा। इसलिए जब शहर पढ़ने के लिए आए तो हमें फ़रेबी इंसान भी पहले भलामानुष ही लगा। हम बीए की पढ़ाई खत्म करके अपने मित्र के साथ राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली आ पहुंचे। पापा ने कहा था पत्रकार बन जाओ, हमारे यहां एक पत्रकार थे उनका बड़ा जलवा था। मंत्री मिनिस्टर सब जानते थे। बस पापा ने ठान लिया पत्रकार बनाएंगे। हम भी अपना बैग उठाए और आ गए। फिर क्या पश्चिमी... Read more